प्यार में नाराजगी पर कविता – देखो इसे बच्चों का खेल ना बनाओ, प्यार में दिल टूटने की कविता

Buy Ebook

प्यार में नाराजगी पर कविताउड़ती बात के सभी चाहने वालों को अमित मौलिक का स्नेहिल अभिवादन। दोस्तों, बिगत कई दिनों के बाद रोमांटिक कविता प्रस्तुत कर रहा हूँ। प्यार में नाराजगी, रूठना-मनाना इजहार, इकरार और तकरार धूप – छाया की तरह चलते रहते हैं। यह आर्टीकल प्यार में नाराजगी पर कविता मेरे उन पाठक मित्रों के लिए है जो मोहब्बत के इन रंगों से आये दिन दो – चार होते रहते हैं। हालांकि प्यार मोहब्बत नाराजगी तकरार ऐसे विषय हैं कि जीवन भर चलते रहते हैं। क्योंकि हर किसी को किसी ना किसी से मोहब्बत होती ही है।

यदि आप मीठे अहसास की कविता, प्यार हो जाने पर कविता, पहले प्यार की कविता, poem in falling love, poem in being love, hindi love Poems, love Poems for him in hindi, रोमांटिक कविता, तकरार की कविता, बिछुड़न की कविता, रोमांटिक प्रेम कविता, रोमांटिक कविता, प्रेमिका पर कविता, सुंदर कविता लाइनों, दिल पर कविता, सच्चे प्यार पर कविता, प्रेम कविता हिंदी, प्रेम भरी कविता, रोमांस पर कविता, बिछोह पर कविता, नाराजगी पर कविता, तकरार की कविता, ब्रेकअप कविता, रूठने मनाने की कविता, रोमांटिक सॉरी कविता, इजहार की कविता, इकरार की कविता, प्रोपोज़ की कविता, प्यार मोहब्बत की कविता,प्यार मोहब्बत की कविताएं, प्यार में होने की कविता, तड़प पर कविता, तड़प की कविता, दर्द भरी कविता, प्यार में दिल टूटने की कविता, रोमांटिक कविता इन हिंदी, हिन्दी कविताएँ चुनिन्दा, प्रसिद्ध हिंदी कविताएँ, सच्चा प्रेम कविता, दर्द भरी कविताएँ, प्रेमिका को मनाने की कविता, लवर को मनाने की कविता, रोमांस कविता, प्यार में ज़द्दोज़हद की कविता , ढूँढ़ रहे हैं तो शायद आपकी खोज यहाँ विराम ले ले।

मीठे अहसास की कविता, प्यार हो जाने पर कविता, पहले प्यार की कविता, poem in falling love, poem in being love, hindi love Poems, love Poems for him in hindi, रोमांटिक कविता, तकरार की कविता, बिछुड़न की कविता, रोमांटिक प्रेम कविता, रोमांटिक कविता, प्रेमिका पर कविता, सुंदर कविता लाइनों, दिल पर कविता, सच्चे प्यार पर कविता, प्रेम कविता हिंदी, प्रेम भरी कविता, रोमांस पर कविता, बिछोह पर कविता, नाराजगी पर कविता, तकरार की कविता, ब्रेकअप कविता, रूठने मनाने की कविता, रोमांटिक सॉरी कविता, इजहार की कविता, इकरार की कविता, प्रोपोज़ की कविता, प्यार मोहब्बत की कविता,प्यार मोहब्बत की कविताएं, प्यार में होने की कविता, तड़प पर कविता, तड़प की कविता, दर्द भरी कविता, प्यार में दिल टूटने की कविता, रोमांटिक कविता इन हिंदी, हिन्दी कविताएँ चुनिन्दा, प्रसिद्ध हिंदी कविताएँ, सच्चा प्रेम कविता, दर्द भरी कविताएँ, प्रेमिका को मनाने की कविता, लवर को मनाने की कविता, रोमांस कविता, प्यार में ज़द्दोज़हद की कविता, प्यार में नाराजगी पर कविता

प्यार में नाराजगी पर कविता

कविता – चाहे मुझे दोबारा से मरना पड़े..

मुझे आभास है
कि इतनी सहज नहीं है,
एक लंबे अंतराल की उपेक्षा से
आहत शुष्क भूमि पर
शीतल नीर की लहलहा हट
चाहे कितनी भी हो
आकस्मिक छटपटाहट।
किंतु मन में अनोखा विश्वास है
ना जाने क्यों मुझे आज भी आस है,
कि झील पुनः प्रस्फुटित होगी
तृप्ति प्यास के सन्निकट होगी
हाँ, यह कार्य अब श्रम साध्य हो गया
किन्तु मैं अपनी इच्छाओं के प्रति
अब और अधिक बाध्य हो गया
बाध्यता अच्छी है,
यह प्रयासों को और गहन करेगी
करना ही पड़ेगा
अन्ततः प्यास कब तक सहन करेगी।
मैं झील की तलहटी में झिरी फोड़ दूँगा
सिरे अवसादों के आनंद से जोड़ दूँगा
आसुओं की नमीं से आप्लावित
कर दूँगा प्रत्येक कोनों को
अभी तुमने देखा ही कहाँ है
मेरे जादू टोनों को।
झील लबालब भर आयेगी,
मेरे निश्च्छल हठ के समक्ष
शुष्कता ह्रदय की मर जायेगी।
मैं टोना करूँगा
पीतल को पुनः सोना करूँगा
चाहे मुझे दोबारा से मरना पड़े
मुझे झील चाहिये तो चाहिये
चाहे मुझे रो-रो कर भरना पड़े।

ये भी पढ़े – प्यार के तीन रंगों पर कविताएं

ये भी पढें – प्यार हो जाने की कविता

ये भी पढें – प्यार में तकरार की कविता

प्यार में नाराजगी पर कविता, मीठे अहसास की कविता, प्यार हो जाने पर कविता, पहले प्यार की कविता, poem in falling love, poem in being love, hindi love Poems, love Poems for him in hindi, रोमांटिक कविता, तकरार की कविता, बिछुड़न की कविता, रोमांटिक प्रेम कविता, रोमांटिक कविता, प्रेमिका पर कविता, सुंदर कविता लाइनों, दिल पर कविता, सच्चे प्यार पर कविता, प्रेम कविता हिंदी, प्रेम भरी कविता, रोमांस पर कविता, बिछोह पर कविता, नाराजगी पर कविता, तकरार की कविता, ब्रेकअप कविता, रूठने मनाने की कविता, रोमांटिक सॉरी कविता, इजहार की कविता, इकरार की कविता, प्रोपोज़ की कविता, प्यार मोहब्बत की कविता,प्यार मोहब्बत की कविताएं, प्यार में होने की कविता, तड़प पर कविता, तड़प की कविता, दर्द भरी कविता, प्यार में दिल टूटने की कविता, रोमांटिक कविता इन हिंदी, हिन्दी कविताएँ चुनिन्दा, प्रसिद्ध हिंदी कविताएँ, सच्चा प्रेम कविता, दर्द भरी कविताएँ, प्रेमिका को मनाने की कविता, लवर को मनाने की कविता, रोमांस कविता, प्यार में ज़द्दोज़हद की कविता,

प्यार में नाराजगी पर कविता

कविता – देखो इसे बच्चों का खेल ना बनाओ

तुम ये बता क्यों नहीं देती कि
मेरा हाल क्यों पूछती रहती हो
मुश्किलों में मुझे डालती हो
और फिर स्वयं जूझती रहती हो।
तुम्हारी आदतें नहीं बदली
मेरी ख्वाहिशें नहीं बदली
महीनों बीतने वाले हैं
ना मैं बदला ना तुम बदलीं
फिर क्या प्रत्याशा है
कैसा अंतर्विरोध है
कैसी आशा है
तुम्हें सब तो पूंछना है
तुम्हें सब तो बताना है
मुझे पूर्णतः पाना है
और पास भी नहीं आना है।
देखो इसे बच्चों का खेल ना बनाओ
बिना डोर की पतंगें ना उड़ाओ
या तो पूरा दूर चली जाओ
या फिर एकदम पास आ जाओ।

यह आर्टिकल प्यार में नाराजगी पर कविता कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बतायें।

Similar Posts:

Please follow and like us:
4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!