माँ पर दो बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़लें। माँ पर दो बहुत ही शानदार ग़ज़लें। माँ पर ग़ज़ल। माँ की ग़ज़ल

  माँ पर ख़ूबसूरत ग़ज़ल-दुआयें दुआयें माँ की, कभी कम नहीं होतीं माँ तो माँ है, ख़ुदा से कम नहीं होती। माँ कल ख़ुदा से, ज़बाबतलबी करती रही मुश्किलें क्यों, बेटे की कम नही होतीं।  एक दिन मेरा बेटा भी, सिकन्दर बनेगा माँ की उम्मीदें, कभी कम नहीं होतीं। मेरा पहला गुनाह, और माँ का

2 दिल मे उतरने वाली दिलकश ग़ज़लें । 2 दिल मे उतरने वाली प्यारी ग़ज़लें। 2 ever best Gazals in hindi । ग़ज़ल । GAZAL । Love Gazals

ग़ज़ल-प्यादा मेरी उजरत कम, तेरी ज़रूरत ज्यादा है ऐ ज़िंदगी कुछ तो बता, तेरा क्या इरादा है। दांव पर ईमान लगाकर, तरक़्क़ी कर लेना आज के दौर का, फ़लसफ़ा सीधा सादा है। हड़बड़ी में दिख रहा, ख्वाहिशों का समंदर लहरों में उफान है, आसमां पे चाँद आधा है। ऐ जम्हूरियत तू भी, अब पहले जैसी

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एंकरिंग (Electronic media Anchoring) क्या है? कुछ आधारभूत जानकारियाँ-आवश्यक योग्यतायें-कॅरियर । Electronic media Anchoring-scop-besic knowledge- eligibility

एंकरिंग के दो प्रकार (variant) होते हैं। पहला इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एंकरिंग (Electronic media Anchoring) और दूसरा मंचीय एंकरिंग (stage Anchoring), मैं इस लेख के द्वारा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एंकरिंग (Electronic media Anchoring) के बारे में कुछ आधारभूत बातें आपको बताना चाहूँगा। भारतीय संविधान के चार आधारभूत स्तम्भों (4 pillar of democracy) में से एक मीडिया है।

दो ऐसी शानदार-जानदार ग़ज़लें जो आपके दिलो दिमाग पर छा जायेंगीं। हिंदी रोमांटिक ग़ज़ल्स । True love gazal in hindi । 2 very very sweet gazals

ग़ज़ल-कश्मीर उन्हें इतनी शिकायत है, कि सब उनको नहीं देता मेरे हिस्से का मेरा आसमां, उनको नहीं देता। यही अंदाज़ है मेरा, नज़र अंदाज़ करता हूँ जो नामाकूल हैं उनको, तवज़्ज़ो मैं नही देता। नज़र मुझसे बचाकर चल दिये हो, याद भी रखना मुक़द्दर एक सा हर दिन, ख़ुदा सबको नहीं देता। हिसाबी मुआमला था

2 रुमानियत से भरी मदमस्त ग़ज़लें। प्यार पर ग़ज़लें । Love Ghazals । रोमांटिक ग़ज़ल इन हिंदी । पहले प्यार पर ग़ज़लें

ग़ज़ल-किस्से लेकर तारे चाँद सुहाना, तेरे आंगन खिलता है। सारे किस्से हमें पता है, गुलशन में क्या चलता है। धूप धुत्त हो छांव में लेटी, तेरे घने गेसुओं की रोज दुपहरी सूरज कुढ़ता, राहदरी में मिलता है। जुट्ट बना कर क्यारीं आयें, नंदन वन के केशर कीं शोख़ कपोलों को छू छू कर, चंदन रंग

मोहब्बत के जुदा-जुदा रंगों की 3 रूमानी कवितायें । 3 Very Romantic love Poems । हिंदी में प्यार की कवितायें

    कविता-बदल गये हो डबडबाती कोरों से भी देखा, दिखते तो हो तुम! पर वैसे नही जैसे दिखते थे संभवतः तुम बदल गये हो हाँ!! तुम बदल गये हो। पहले तुम्हें आती थी संकेतों की भाषा झूठ सच क्षोभ विषाद सब पकड़ लेते थे। मैं लिख देती थी उंगली से कुछ शून्य में, और

महिला उत्पीड़न के विषय पर एक खरी खरी कविता। Poetry on Women’s Harassment । poem on women empowerment in hindi

कविता-प्रश्न तो है! चरित्र और मर्यादा! जिसने भी गढ़े होंगे ये शब्द, बड़ा व्यापक हेतु रहा होगा। शायद आचार का निर्धारण और निष्ठा का पालन कहा होगा। प्रतिपादित किये गये होंगे सम्भवतः ‘सर्व गुण संपन्न’ मदांध-नियंताओं और सामंतो के लिये। किन्तु थोप दिये गये, पुरुषों के पैरोकारों द्वारा, कुशलतापूर्वक स्त्रियों पर। समर्थन मिलना ही था,

3 ख़ूबसूरत ग़ज़लों की सुंदर प्रस्तुति। 3 शानदार ग़ज़लों की शानदार प्रस्तुति। 3 Very sweet Ghazals

  ग़ज़ल-सियासत पत्थर दिल में इश्क़ की चाहत, धीरे धीरे आती है शाम ढले ख़्वाबों की आहट, धीरे धीरे आती है। नया नवेला इश्क़ किया है, तुम भी नाज़ उठाओगे रंज-तंज़ फ़रियाद शिक़ायत, धीरे धीरे आती है। तुम तो आओ सब आयेंगे, चांद सितारे तितली फूल ज़ीनत मस्ती ज़िया शरारत, धीरे धीरे आती है। ज़हर

3 ख़ूबसूरत ग़ज़लों की शानदार प्रस्तुति। 3 अलग अलग रंगों की ग़ज़लों की मोहक प्रस्तुति । Love Ghazals

  ग़ज़ल-आशना जबसे उनसे हुई मेरी अनबन तबसे सूना है शाख-ए-नशेमन। कैसे कह दूँ के आ मेरे ज़ानिब बेमज़ा हो गया हुँ मैं जानम। जो महक ना बिखेरे फ़िज़ा में क्यों सजाये कोई ऐसा गुलशन। यूँ है आराइश-ए-आशियाना जैसे उलझा हो कांटों से दामन। फ़ासिला कुछ ज़हद ने बढ़ाया बेख़ता था सदा से ये मुल्ज़िम।

बुलेट ट्रैन की उपयोगिता पर एक आलोचनात्मक कविता। जापानी बुलेट ट्रैन प्रोजेक्ट पर कविता। jaapaanee bullet train project par kavita

  भारत में चलेगी जापानी बुलेट ट्रैन। अभी अभी जापान के माननीय प्रधानमंत्री जी भारत के दौरे पर पधारे थे। इस राजनैतिक दौरे की महत्वपूर्ण उपलब्धि भारत मे बुलेट ट्रैन चलाने के प्रोजेक्ट पर अनुबन्ध और जापान द्वारा एक भारी राशि बहुत ही कम प्रतिशत पर कर्जे के रूप में उपलब्ध कराना रही। निश्चित रूप