ताली शायरी । तालियों वाली शायरी । Taali par shayri । taaliyon waali shayri-Part-2

Buy Ebook

ताली शायरी – एंकरिंग में एंकरिंग शायरी, गेस्ट वेलकम शायरी का जितना महत्व है उतना ही ताली शायरी का भी महत्व है। ज्यादा और बेहतर तालियों की ज़रूरत है तो ताली शायरी का भरपूर प्रयोग करें देखिये कार्यक्रम में किस तरह से जान आ जाती है। आज के इस आर्टीकल में आपके लिये प्रस्तुत हैं कुछ बेहतरीन ताली शायरी। आशा करता हूँ कि इससे आपको काफी कुछ सहायता मिलेगी। 

ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, मंच शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, प्रस्तोता शायरी, ताली बजाओ शायरी

ताली शायरी

ख्वाहिशें आली होंगी,
आसमान बन जांयेंगीं
ये उदासीयां गर्क होकर,
मुस्कान बन जांयेंगीं
आप तालियाँ बजाकर,
हौसलों को हवा देते रहें
आप की तालियाँ महफ़िल की,
जान बन जांयेंगीं।

मौजूपन की लज़्ज़त वाली,
बातें मतवाली होंगीं
इस महफ़िल के ज़र्रे-ज़र्रे,
रूही खुशहाली होंगीं
इधर सजी गुलकंद मिली कुछ,
माखन मिश्री जैसी शाम
क्या कहना जब उधर से तड़तड़,
जोरदार ताली होंगीं।

ये भी पढ़ें 👇👇👇

• मंच संचालन शायरी

• स्वागत शायरी

मंच संचालन कैसे करें

दीप जले हैं सो मत जाना,
मिलकर करना रखवाली
फ़ूल खिले हैं चप्पे चप्पे,
सावधान रहना माली
आवाज़ें कुछ करते रहना,
तब गुलशन मुस्कायेगा
चलो बजा दो फिर से मिलकर,
एक बार तड़तड़ ताली।

ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, मंच शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, प्रस्तोता शायरी, ताली बजाओ शायरी

नयी हवा है नई लहर है,
नई महक है मतवाली
और नए कुछ मौसम लाये,
दुनिया भी सपनो वाली
हम तो रंग ज़माने बैठे,
रंगों में नहला देंगे
चलो करें फिर शुरू बजा दें,
एकबार खुलकर ताली।

ज़माने की सारी खुशियाँ,
इन्हें बाहों में भर लेंगीं
आपकी हौसलाअफजाई,
इनमें विश्वास भर देगी
आप बस हर प्रस्तुति पर,
जोरदार तालियाँ बजाते रहें
आपकी स्नेहिल सराहना
इन्हें उत्साह से भर देंगीं।

सौगातों का झुण्ड बनाकर,
आई शाम मज़ा लीजे
अपने दिल के हर कोने को,
इत्रों से महका लीजे
यहाँ मंच पर धूम मचेगी,
अगर आप चाहेंगें तो
बस इतना करना हर क्रम पर,
ताली खूब बजा दीजे।

इन कलाकारों के हौसलों को,
बुलंदियों की हवा दीजिये
नए नए फूल खिले हैं इन्हें,
मकबूलियत की दुआ दीजिये
ये अपने फन से हर महफ़िल में,
ऐसे ही रंग जमाते रहें
इनके लिए आशीर्वाद में,
जोरदार तालींयां बजा दीजिये।

 आपको यह आर्टीकल ताली शायरी कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बतायें।

इस आर्टीकल का वीडियो जरूर देखें 👇👇👇

 

 

Similar Posts:

Please follow and like us:
21 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *