ताली शायरी पार्ट 4 – तालियों वाली शायरी, ताली पर शायरी, clapping poetry in hindi, tali wali shayari, taliyan shayari, jordaar taliyan ho jaaye shayari

Buy Ebook

ताली शायरी पार्ट 4 – उड़ती बात के सभी चाहने वालों को Amit Maulik का नेह भरा नमस्कार। दोस्तों, एक सफल compere को compering script में richness लाने के लिये compering shayari, clapping shayari, Guest welcome shayari, Thank you shayari, Gratitude shayari आदि की लगातार आवश्यकता पड़ती रहती है। तालियाँ शायरी की श्रंखला में आज का आर्टिकल ताली शायरी पार्ट 4  में आपके लिये दोहाबद्ध तालियों वाली शायरी लेकर आया हूँ। उम्मीद करता हूँ कि आप सब एंकर मित्रों को कुछ न कुछ सहायता इस पोस्ट से अवश्य मिलेगी।

ताली शायरी पार्ट 4 , ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, Manch Sanchalan shayari in hindi, Sanchalan shayari in hindi, manch shayari, wakta shayari in hindi, anchoring shayari in hindi, host shayari in hindi, manch hetu shayari, stage shayari in hindi, manch Sanchalan ke liye saamagri, manch Sanchalan kavita, manch Sanchalan panktiyan, मंच संचालन शायरी, संचालन शायरी, मंच शायरी, वक्ता शायरी, एंकरिंग शायरी, स्टेज शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, मंच संचालन की पंक्तियाँ, मंच संचालन पंक्तियाँ, संचालन पंक्तियाँ, एंकरिंग पंक्तियाँ, मंच संचालन, शायरी स्टेज की, एंकरिंग शायरी, मंच संचालन हेतु शायरी, प्रस्तोता शायरी, Clapping Shayari in hindi, Clapping, Clapping shayari for anchoring, कम्पेरिंग शायरी, compering shayari in hindi, amit jain maulik shayari, अमित जैन मौलिक, अमित मौलिक, अमित जैन लेखक कवि एंकर, उडती बात

ताली शायरी पार्ट 4

ठीक नहीं कहना मेरा, सबसे यह हर बार
करतल ध्वनि हो जाये तो, हो जाये उपकार
बिना कहे बजती रहें, हर प्रस्तुति के बाद
तड़-तड़ वाली तालियाँ, तब है कोई बात।

ताली आप बजाओगे, बिखर जायेगा नूर
बज जायेगा ह्रदय में, बच्चों के संतूर
अथक परिश्रम से किया, इनने आज धमाल
ये बच्चे हक़दार हैं, ताली हो भरपूर।

ताली शायरी पार्ट 4 , ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, Manch Sanchalan shayari in hindi, Sanchalan shayari in hindi, manch shayari, wakta shayari in hindi, anchoring shayari in hindi, host shayari in hindi, manch hetu shayari, stage shayari in hindi, manch Sanchalan ke liye saamagri, manch Sanchalan kavita, manch Sanchalan panktiyan, मंच संचालन शायरी, संचालन शायरी, मंच शायरी, वक्ता शायरी, एंकरिंग शायरी, स्टेज शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, मंच संचालन की पंक्तियाँ, मंच संचालन पंक्तियाँ, संचालन पंक्तियाँ, एंकरिंग पंक्तियाँ, मंच संचालन, शायरी स्टेज की, एंकरिंग शायरी, मंच संचालन हेतु शायरी, प्रस्तोता शायरी, Clapping Shayari in hindi, Clapping, Clapping shayari for anchoring, कम्पेरिंग शायरी, compering shayari in hindi, amit jain maulik shayari, अमित जैन मौलिक, अमित मौलिक, अमित जैन लेखक कवि एंकर, उडती बात

रौशन आलम हो गया, हर दिल में उत्साह
महफ़िल रंग जमायेगी, आशा दई जगाय
आप सभी जन को मेरा, नमस्कार आदाब
चलो आपके नाम पर, ताली कुछ हो जाय।

इतनी सुंदर प्रस्तुति, इतना सुंदर काम
शाबाशी कर दीजिये, इन बच्चों के नाम
खुलकर दे दो तालियाँ, इन परियों को आज
सबने अपने काम को, ख़ूब दिया अंजाम।

ताली शायरी पार्ट 4 , ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, Manch Sanchalan shayari in hindi, Sanchalan shayari in hindi, manch shayari, wakta shayari in hindi, anchoring  shayari in hindi, host shayari in hindi, manch hetu shayari, stage shayari in hindi, manch Sanchalan ke liye saamagri, manch Sanchalan kavita, manch Sanchalan panktiyan, मंच संचालन शायरी, संचालन शायरी, मंच शायरी, वक्ता शायरी, एंकरिंग शायरी, स्टेज शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, मंच संचालन की पंक्तियाँ, मंच संचालन पंक्तियाँ, संचालन पंक्तियाँ, एंकरिंग पंक्तियाँ, मंच संचालन, शायरी स्टेज की, एंकरिंग शायरी, मंच संचालन हेतु शायरी, प्रस्तोता शायरी, Clapping Shayari in hindi, Clapping, Clapping shayari for anchoring, कम्पेरिंग शायरी, compering shayari in hindi, amit jain maulik shayari, अमित जैन मौलिक, अमित मौलिक, अमित जैन लेखक कवि एंकर, उडती बात

बदली से टकराई जो, पायल की झंकार
सुख की सुंदर यात्रा, ले गई नभ के पार
मिश्री जैसी बारिशें, ले गईं दिल को लूट
जोर शोर से तालियाँ, बनती हैं सरकार।

जिव्हा बैठीं सरस्वती, शब्द-शब्द है नूर
मुख्य अतिथि का स्वागतम, दिल से हो भरपूर
भाषण बहुत कमाल था, अनुपम सुने विचार
ख़ूब बजाओ तालीयाँ, ये सच्चे हकदार।

ताली शायरी पार्ट 4 , ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, Manch Sanchalan shayari in hindi, Sanchalan shayari in hindi, manch shayari, wakta shayari in hindi, anchoring  shayari in hindi, host shayari in hindi, manch hetu shayari, stage shayari in hindi, manch Sanchalan ke liye saamagri, manch Sanchalan kavita, manch Sanchalan panktiyan, मंच संचालन शायरी, संचालन शायरी, मंच शायरी, वक्ता शायरी, एंकरिंग शायरी, स्टेज शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, मंच संचालन की पंक्तियाँ, मंच संचालन पंक्तियाँ, संचालन पंक्तियाँ, एंकरिंग पंक्तियाँ, मंच संचालन, शायरी स्टेज की, एंकरिंग शायरी, मंच संचालन हेतु शायरी, प्रस्तोता शायरी, Clapping Shayari in hindi, Clapping, Clapping shayari for anchoring, कम्पेरिंग शायरी, compering shayari in hindi, amit jain maulik shayari, अमित जैन मौलिक, अमित मौलिक, अमित जैन लेखक कवि एंकर, उडती बात

कलाकार ने खींच दी, रेखा इक गम्भीर
सच का करके सामना, नैनन आया नीर
जोरदार हो तालियाँ, शहर भले हिल जाय
इस प्रस्तुति से आज की, बदल गई तस्वीर।

जन-जन की उम्मीद जो, हर मन की जो आस
पुलकित आयोजक हुये, पाकर उनको पास
ह्रदय डुबोकर हर्ष में, मुदित भाव भर नैन
चलो बजाकर तालियाँ, स्वागत कर लें आज।

ये भी पढें – ताली शायरी पार्ट 3

ये भी पढ़ें – ताली शायरी पार्ट 2

ये भी पढ़ें – ताली शायरी पार्ट 1

ताली शायरी पार्ट 4 , ताली शायरी, तालियों वाली शायरी, तालियों पर शायरी, तालियों पर पंक्तियाँ, ताली वाली शायरी, ताली पर शायरी, ताली बजा दें शायरी, ताली बजा लें शायरी, जोरदार तालियाँ बजा दें शायरी, taali shayari, taali wali shayari, taaliyon wali shayari, taaliyon par shayari, taaliyon par chaar panktiyan, taaliyon par char panktiyan, taali par shayari, manch Sanchalan shayari, manch shayari, taali, ताली, तालीं, तालियों, तालियाँ, तालियाँ बजा दें, एक बार ज़ोरदार तालियाँ बजा दें, clapping shayari, ताली, तालियों की गड़गड़ाहट से, तड़ताडती तालियाँ, तड़ातड़ ताली, Manch Sanchalan shayari in hindi, Sanchalan shayari in hindi, manch shayari, wakta shayari in hindi, anchoring  shayari in hindi, host shayari in hindi, manch hetu shayari, stage shayari in hindi, manch Sanchalan ke liye saamagri, manch Sanchalan kavita, manch Sanchalan panktiyan, मंच संचालन शायरी, संचालन शायरी, मंच शायरी, वक्ता शायरी, एंकरिंग शायरी, स्टेज शायरी, मंच संचालन के लिये शायरी, मंच संचालन की पंक्तियाँ, मंच संचालन पंक्तियाँ, संचालन पंक्तियाँ, एंकरिंग पंक्तियाँ, मंच संचालन, शायरी स्टेज की, एंकरिंग शायरी, मंच संचालन हेतु शायरी, प्रस्तोता शायरी, Clapping Shayari in hindi, Clapping, Clapping shayari for anchoring, कम्पेरिंग शायरी, compering shayari in hindi, amit jain maulik shayari, अमित जैन मौलिक, अमित मौलिक, अमित जैन लेखक कवि एंकर, उडती बात

यश फैले जयवंत हों, हो अंनत सम्मान
गुंजित हो नभ पार तक, आपके सुंदर काम
हम सब आभारी हुये, श्रीमान जी आये
ताली जरा बजाओ तो, मुख्य अतिथि के नाम।

आपको यह आर्टिकल ताली शायरी पार्ट 4 कैसा लगा। अपनी बहुमुल्य प्रतिक्रिया अवश्य दर्ज करें। धन्यवाद

Similar Posts:

Please follow and like us:
10 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *