कश्मीर में पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर कविता – सेना द्वारा पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर कविता

Buy Ebook

कश्मीर में पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर कविता – सभी पाठकों को जय हिन्द। काश्मीर के पुलवामा में 15/12/18 को सेना के द्वारा 3 आतंकवादियों के साथ 8 पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर प्रस्तुत है दो टूक बात कहती कविता। मित्रों इस बावत कहना होगा कि देर से ही सही पर दुरुस्त हुआ। पाकिस्तान समर्थित, वित्तीय पोषित और प्रायोजित आतंकवाद को पत्थरबाजों की आड़ लेकर भारतीय सेना के कामकाज में रोड़ा अटकाया जा रहा था।

जब जब भारतीय सेना आंतकियों का एनकाउंटर करने पहुँचती थी, पत्थरबाजों के दल के दल भारतीय सेना के जवानों पर पत्थरबाजी करके आतंकियों को भागने में मदद करके सेना के काम में व्यवधान डालते थे। लेकिन आख़िरकार भारतीय सरकार और सेना प्रमुख विपिन रावत जी ने एक स्पष्ट नीति बनाई है कि सेना के काम में व्यवधान पहुंचाने वाले पत्थरबाजों और आतंकियों को एक समान दृष्टि से देखा जायेगा और समान कारर्वाई की जायेगी।

मैं इस अभिनंदनीय निर्णय का स्वागत करता हूँ। इस आर्टिकल कश्मीर में पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर कविता के माध्यम से भारतीय सेना की कार्रवाई और निर्णय को शाब्दिक सुमन अर्पित करता हूँ। यदि सेना के इस अभिनव कदम से आप सहमत हों तो इस कविता को जमकर शेयर करें और मुझे कमेंट करके अपनी प्रतिक्रिया से अवगत अवश्य करायें।

और इसका अमलीजामा कल दिनांक 15/12/18 को पुलवामा में 3 आतंकवादियों के साथ, पत्थरबाजी करके उनको कवर कर रहे 8 पत्थरबाजों का एनकाउंटर करके पहना दिया गया है। हम भारत सरकार और सेना की इस पहल और कड़े निर्णय का अभिनंदन करते हैं। घाटी में दशकों से पाकिस्तानी शह पर घाटी के वाशिंदे जिस तरह से आतंकवादियों को मदद पहुँचा रहे थे, सेना के काम में व्यवधान डाल रहे थे, यहाँ तक की भारतीय सेना के जवानों को थप्पड़ तक लगा कर उनका मनोबल गिरा रहे थे उससे समूचे भारत बर्ष में आक्रोश व्याप्त था।

कश्मीर में पत्थरबाजों के
एनकाउंटर पर कविता

ठोक दिया लावा सीने में,
सूरत आज बदल डाली
पत्थरबाजों की सेना ने,
छाती छलनी कर डाली।

देर लगी निर्णय में लेकिन,
मर्दों वाली बात हुई
पुलक उठ सारा जनमानस,
बेहतर इक शुरुआत हुई।

पुलवामा में आज जवानों ने,
इतिहास बना डाला
उग्रवादियों के संग पत्थर-
बाजों को दफना डाला।

शौके शहादत वालो आओ,
ऑफर है क़ुर्बानी दो
गोली खाओ ज़न्नत जाओ,
हूरें लो-बिरयानी लो।

अरे ज़ाहिलो भूल गये हो,
तुम रसूल के ईमाँ को
अपनी मिट्टी अपनी बस्ती,
भूल गये अपनी माँ को।

तुम जयचंदों की शह पाकर,
सबक कुरानी भूल गये
वतन बड़ा होता मज़हब से,
बात पुरानी भूल गये।

अब दलाल नेता बन बैठे,
ताक़त पाकर वोटों में
गिरवी रखा ज़मीर तुम्हारा,
पाकिस्तानी नोटों में।

लाखों रोज कमाते हैं ये,
आतंकी आकाओं से
चंद नोट में पत्थर फिकवाते,
हैं रोज युवाओं से।

जन्मे जिये पले भारत में,
मन से पाकिस्तानी हैं
ये दलाल ही पाकिस्तानी,
सबसे बड़े हरामी हैं।

गज़ब तमाशा हमने देखा,
बर्षों केशर घाटी में
दूध पिया जिस माँ का,
घोंपा खंज़र उसकी छाती में।

घाटी के गद्दारों सुन लो,
पाकिस्तानी मीत सुनो
या तो मौत चुनो मर जाओ,
या जन गण मन गीत चुनो।

सुधर जाओ ‘मौलिक’ की मानो,
ज़हर ना घोलो मौजों में
साँप पालना छोड़ दिया है,
हिंदुस्तानी फ़ौजों ने।

  • कवि अमित ‘मौलिक’

इस आर्टिकल कश्मीर में पत्थरबाजों के एनकाउंटर पर कविता पर आपकी प्रतिक्रिया के इंतज़ार में।

Similar Posts:

    None Found
Please follow and like us:
4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *