Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

माँ सरस्वती वंदना। स्वागत गीत। Maa Saraswati vandana। Swagat Geet ।

Buy Ebook
 saraswati

माँ सरस्वती वंदना

मेरी मैया शारदे माँ
मुझे अपना बना लेना 
तू ममता का समंदर है
मुझे कतरा बना लेना।

सुरीली मुग्ध सरिताएं
मेरे उर में बहा दे माँ 
ह्रदय में बाँसुरी की धुन
ज़रा संगीत भर दे माँ 
मैं बन जाऊँ मधुर मिश्री
मुझे सुर पांचवां देना।

 

ये भी पढ़ें: श्री गणेश वंदना 

ये भी पढ़ें: माँ सरस्वती वंदना-2

 

उडू अम्बर में चिड़ियों सा
चहक जाऊँ लहक जाऊँ 
खिलूँ गुल सा चमन में और
खुशबू सा महक जाऊँ 
कुहासे सारे संशय के
मेरे मन से हटा देना।

रहें मौलिक, प्रपंचों से
विमुख हों कर जीयें जीवन 
छदमता हों ना अंतर में
कलुषता हो ना मेरे मन
मेरे अंतस के सारे तम
मेरी मैया मिटा देना।

मेरी मैया शारदे माँ
मुझे अपना बना लेना 
तू ममता का समंदर है
मुझे कतरा बना लेना।

 
_20161130_132959

अतिथि स्वागत गीत 

आ गये हमारे अतिथि यहाँ,
हम सब मिल स्वागत करते हैं 
कृत उपकृत मन के भाव सुमन,
हम सादर अर्पित करते हैं।

श्रीमान पधारे आप यहाँ,
हम हर्षित हैं हम पुलकित हैं 
कैसे अभिनन्दन करें भला
यह सोच सोच कर चिंतित हैं 
सुरभित नूतन कुछ पुष्प मिले
हम वही समर्पित करते हैं 
आ गये हमारे अतिथि यहाँ,
हम सब मिल स्वागत करते हैं।

 

ये भी पढ़ें: अतिथि स्वागत गीत-2

ये भी पढ़ें: स्वागत शायरी

ये भी पढ़ें: मंच संचालन शायरी

यह बड़ी सोच यह दूर दृष्टि,
यह ऊर्जा हमें भी मिल जाये 
तो हम सबके जीवन में भी,
आशा की कोंपल खिल जाये 
सानिध्य मिला मिलता ही रहे
हम यही निवेदन करते हैं 
आ गये हमारे अतिथि यहाँ,
हम सब मिल स्वागत करते हैं।

Similar Posts:

Please follow and like us:
7 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *