जन्मदिन की शुभकामनाओं पर कविता। Birthday wishes poem in hindi । जन्मदिन पर शुभकामना संदेश की कविता

Buy Ebook

शुभकामना संदेश – पढ़िये अपने अपने किसी प्रिय के जन्मदिन पर बधाई कविता या शादी की बर्षगाँठ के उपलक्ष्य में शुभकामना संदेश की कविताएं। जन्मदिवस कविता  एवम शादी की बर्षगाँठ पर कविता  पसंद आये तो प्रतिक्रिया अवश्य दीजियेगा।

शुभकामना संदेश, जन्मदिन पर कविता, शादी की बर्षगाँठ पर कविता, happy birthday poems

जन्मदिन पर शुभकामना कविता

जब तक चाँद चमकता होगा, नीलगगन की बाँहों में 
तब तक फूल सितारे होंगे, आपके साथ पनाहों में 
जब तक सूर्य दमकता होगा, आसमान की राहों में 
तब तक आप जियेंगे ऐसे, जैसे फूल बहारों में

हम सब दोस्त आपके साथी, यही मुरादें मांगेंगे 
रंग भरें सपनों में प्यारे, सच हो, जो है ख्वाबों में 
मंत्रमुग्ध हों जाये ज़माना, बोली मीठी मौलिक हो
जीवन सदा बसंती बीते, कल्पवृक्ष की छांव में 

 
शादी की सालगिरह पर शुभकामना संदेश

दो हंसो की जान को , फूलों सी मुस्कान को 
उसने जन्नत से भेजा, करने अच्छे काम को

आपकी जोड़ी बनी रहे, प्रेम रंगोली सजी रहे 
उड़े बसंती पुरवाई, यश फैले जग में नाम हो

खुशियों के पैगाम को, सालगिरह की शाम को 
ज़ज़्बातों का गुलदस्ता, भेजा है सम्मान को

ये भी पढ़ें 

◆ Happy birthday shayari in hindi

◆ जन्मदिन की रोमांटिक कविताएं

 जन्मदिन पर शुभकामना संदेश की कविता

प्रेम स्वरूपी अखिलेश्वर की अमृत रूपी रचना थी 
मेरी प्रिया तुम्हारा उद्भव महज़ नहीं इक घटना थी।

गृह कुछ खास कतार खड़े थे हम को अवसर देना जी 
नाम हमारा हो जायेगा इस कन्या से ब्रम्हा जी।

पहले अवसर मिला चंद्र को शीतलता सुखवाली थी 
मधुर स्मिता मृदुल सुष्मिता कूट कूट भर डाली थी।

बुद्ध बढे आगे अब मुझको प्रखर बुद्धि दे देनो दो 
इसकी प्रज्ञा मन विवेक सब विस्मयकारी होने दो।

शुक्र कँहा पीछे हटते दृढ़ता का पाठ पढ़ाने में 
इसकी इच्छाशक्ति रहेगी मेरु समान ज़माने में।

मंगल आकर के मुस्काये साहस शौर्य हमारा है 
कभी ना हारेगी यह कन्या यह वरदान हमारा है।

गुरु आये वैभव की इसको कभी कमी ना आएगी
इक मांगेगी दो पायेगी जो आकांक्षा भायेगी।

सूर्य ओज देकर मुस्काये भाल चमकता दिया तुम्हें
सकारात्मक ऊर्जा देकर यशोपात्र कर दिया तुम्हें।

राहु केतु और शनी भी आकर प्रेम जताये थे 
कभी सतायेंगे ना इसको भेंट अशीष की लाये थे।

तुमको अपने बीच में पाकर परिजन सब अभिभूत हुए 
की स्वीकार मित्रता मेरी हम अभिमानी खूब हुये।

सदा रहो चिन्मय चिरजीवी प्रीत मई यह युग कर दो 
शुभ दिन लौटे यूँ ही शत शत जन्मदिवस यह जुग जुग हो।

जन्मदिवस पर आज तुम्हारे यही भावना रखते हैं 
मौलिक हों सब काम तुम्हारे यही कामना करते हैं।

13 Comments

Leave a Reply