रोमांटिक शायरी ‘चिट्ठी तार’ । Romantic Shayri ‘Chitthi Taar’

Buy Ebook

pexels-photo-87346

 

दुआयें तुम को ढूँडेंगी अगर इंसाफ तुम कर दो 
मै कह दूँगा जो दिल में है अगरचे माफ तुम कर दो 
समंदर को सुधा करके तुम्हें सौगात में दूँ 
जो चाहत में तुम्हारा हाथ मेरे हाथ पर रख दो 

कभी मेला कभी महफिल कभी संसार कर लेना 
अगर तन्हाई ज्यादा हो तो चिठ्ठी तार कर लेना 
तुम्हें आराम मिल जाये खुशी मुझको मिले थोड़ी 
ज़रा मुमकिन लगे तो प्यार से तुम प्यार कर लेना 

 हमारा दिन संवरता है तेरा दीदार करने से 
कोई भी रोक ना पाया किसी को प्यार करने से 
तुम्हें अंदाज़ भी है तुम मेरी किस्मत की चाभी हो 
तुम्हारा क्या बिगड़ता है महज इकरार करने से 

इसे जितना छुपाओगे मचलकर आयेगा उतना 
ये दिल का रोग बढ़ता है दवा दोगे इसे जितना 
किया है याद तुमने आज तक जितना मुझे यारा 
किसी को कर नहीँ सकती मुझे मालूम है इतना 

मुझे मंजूर है तुमने कहा है दोस्त ग़म कैसा 
मगर दिल से जो निकले प्यार तो परहेज क्यों ऐसा 
मुझे अफसोस से कहना पड़ा है आज ये तुमसे 
जो मेरी रूह तक पहुँचे मिला दिलदार ना ऐसा 

जोत ना पूछ जलेगी कब तक प्रीति की बाती गहरी है 
स्वांस ना पूँछ चलेगी कब तक चोट जिगर पै गहरी है 
तर्क नहीँ है शर्त नहीँ है बहता हूँ तो बह जाऊँ 
स्रोत ना पूछ बहेगी कब तक पीर की छाती गहरी है 

मनचली है तकदीर मेरी, बेवफ़ाई को मचल जाती है 
एक दुआ कबूलवाने में ही, जान निकल जाती है 
ऐसा नहीँ है कि मुहब्बत हमें, होती नहीँ किसी से 
मैं छूने ही वाला होता हूँ, कि खुशी फिसल जाती है 

अभी तुमको खुशी से और मिलने की ज़रूरत है
तुम्हे ये दोस्त थोड़ा और खुलने की ज़रूरत है
हया के शोख परदों को हटा देना मेरे यारा
चलो अब मोम पिघलाते हैं जलने की ज़रूरत है

कंचन काया की उतरन उबटन को चंदन कर लेंगे 
तेरी मधुर स्मिता लेकर स्वांस को सँदल कर लेंगें 
हम तो यही दुआयें देंगे सदा रहे अक्षत यौवन 
मौलिक को बख्शीश सही उसमें ही आनँद कर लेंगे 

Similar Posts:

Please follow and like us:
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *