रोमांटिक शायरी ‘कम पढ़ा होता’ । Romantic shayari ‘kam padha hota’

Buy Ebook

 

 

दिलों में बवाल होंठों पर सवाल रक्खो
ज़माना टेढ़ा है तुम भी टेढ़ी चाल रक्खो

आखिरी हिचकी है बाक़ी तू अभी रहने दे
आखिरी दांव लगायेंगे लगाने वाले

पूछ कर हाल बतायेंगे ज़माने भर को
ये तमाशा भी बनायेंगे बनाने वाले

हमने सूरज भी बनाया है जलाया बरसों
वो चिरागों को हैं खैरात में लाने वाले

अब तो ये रोज का किस्सा है किया जाये
ये ख़ुदा तू ही बता किस तरह जिया जाये

हर जगह तू है तेरी याद ख़्वाब बिखरे हैं
काम फैला तमाम किस तरह किया जाये

 

ये भी पढ़ें: रोमांटिक शायरी-इश्क की आहट

ये भी पढ़ें: रोमांटिक शायरी-चिट्ठी तार

ये भी पढ़ें: रोमांटिक शायरी-रानी नहीं मिलती

 

हुआ तो है कुछ जो तुम खामोश बैठे हो
बसंत में यूँ तितलियाँ कभी चुप नहीं बैठतीं

गैरते इश्क में सुकून कम बवाल ज़्यादा हैं
चलन में अब ख़्वाब कम हैं सवाल ज़्यादा हैं

मौसम गुज़र गये पर तेरे वादे वैसे ही अड़े हैं
तू जहाँ छोड़ गया था हम वहीँ के वहीँ खड़े हैं

मैं तो मुतमइन था तेरे जताये अफसानों से
तूने ही नज़रें चुराकर सब बेकार कर दिया।

मेरी पैकर-ए-अक्ल-ओ-दानाई सोने नहीं देती
सूरत-ए-हाल कुछ होते जो मैं कम पढ़ा होता

ज़रूरी नहीं कि रोज सज़दे हों रोज नमाज़ें की जायें
लतीफ़े भी सुनाया करो कि यह भी एक इबादत है

सुबह तो रोज़ आती है, ये किस्से रोज़ के ज़ालिम
किसी दिन शाम ना आये, तमाशा बन गया समझो

मैं कतरा हूँ तो हाँ मैं हूँ, समंदर मुझ बिना क्या है
मेरी खुद मौज़ है ताईद क्यों, यूँ सोचना क्या है

दीप जले तो जग भर देखे, घृत युत बाती देखे कौन
चेहरे की रौनक सब देखें, हिये की सुलगन देखे कौन

उसकी इबादत छूट जाये तो मैं नई जुगत लगा लेता हूँ
मैं गुदगुदी करता हूँ और चार बच्चों को हँसा देता हूँ।

 

 

Similar Posts:

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *