मंच संचालन हेतु शानदार ताली शायरी । तालीयों पर शायरी । Clapping Shayari in hindi । ताली शायरी पार्ट-3

Buy Ebook

प्रस्तुत है उड़ती बात स्पेशल आर्टिकल मंच संचालन हेतु शानदार ताली शायरी । आशा है सभी मंच संचालकों को इस आर्टिकल से मदद मिलेगी। 

अपनी कद्रदानी को
इस तरहा ना छिपाइए
अगर प्रस्तुति पसंद आई हो
तो तालियाँ बजाइये।

भ्रमर परागों पर बैठेगें
धरी रहेगी रखवाली
खुश्बू ख़ुद उड़ने को आतुर
क्या कर लेगा जी माली
हम तो खुशी बांटने आये
खुशी बांटकर जायेंगे
चलो बजा दो सारे मिलकर
एक बार खुलकर ताली।

गम काफ़ूर हो जायेंगे,
ख़ुश हालियाँ आएंगी
अगर हर प्रस्तुति पर,
ज़ोरदार तालियाँ आयेंगी।

ये भी पढ़ें-ताली शायरी पार्ट-1

ये भी पढ़ें-ताली शायरी पार्ट-2

थोड़ा सा प्यार थोड़ी सी
दुआयें अता कीजिये।
इन बच्चों की लिये ज़ोरदार
तालियाँ बजा दीजिये।

कोई पेशेवर कलाकार नही हैं,
फिर भी समर्पित कितने हैं।
इनके लिये खूब तालियाँ बजाइये,
क्योंकि ये तो हमारे अपने हैं।

ये भी ख्वाबों के हसीं झूले झूलें
वक़्त की गर्द में अपने सपने न भूलें
एक बार ऐसी तालियाँ बजाइये
कि इनके हौसले आसमान छूलें।

किसी ने कहा ग़ज़ल सुनाओ
किसी ने कहा गीत सुनाओ
किसी ने कहा इन्हें गवाओ
किसी ने कहा उन्हें बुलाओ
हम तो आपकी हर बात मान रहे
आप भी तो हर प्रस्तुति पर
ज़ोरदार तालियाँ बजाओ।

इस ज़माने में हज़ारों दर्दमंद हैं
लेकिन ख़ुशी बांटने वाले चन्द हैं
तो बाँटिये ख़ुशी तालियाँ बजाकर
तालियाँ तो वैसे भी फायदेमंद हैं।

ये नन्हें फूल तब महकते हैं जब
ख़ुदा की नीली छतरियां तनतीं हैं
इन नन्हें मुन्हे फरिश्तों के लिए
ज़ोरदार तालियाँ तो बनतीं हैं।

आज का ये अवसर बड़ा निराला है
आज यहाँ पर नूर बरसने वाला है
एक बार जोरदार तालीयाँ बजा दें
कार्यक्रम अब शुरू होने वाला है।

वो आये गये जिनका इंतज़ार था
आओ हम खुशियों के दिये जला लें
आज के मुख्य अतिथि के स्वागत में
सब लोग जोरदार तालियाँ बजा दें।

ससुराल में साली का, घर में घरवाली का
भोजन में थाली का, बड़ा महत्व है
बागों में माली का, देवियों में काली का
कार्यक्रम में ताली का, बड़ा महत्व है।

हर प्रस्तुति में लुत्फ़ है बहारों सी मस्ती है।
ऊपर से यहाँ बैठी हर शख्सियत हस्ती है
फिर तालियों में कंजूसी क्योंकर हो रही
जबकि ये बस्ती तो दिलवालों की बस्ती है।

12 Comments

Leave a Reply