पाकिस्तान के विरोध में कविता – निपट जायेगा पाकिस्तान । कवि अमित मौलिक

Buy Ebook

पाकिस्तान के विरोध में कविता – प्रिय पाठको, मेरे कई प्रशंसकों के मेल मुझे मिल रहे थे कि मैं पाकिस्तान के विरोध में कविता  लिखूँ। मैंने इस आर्टीकल पाकिस्तान के विरोध में कविता  में 2 कविताओं के माध्यम से पाकिस्तान के प्रति भारतीय जन साधारण के आक्रोश को सरल शब्दों में आवाज़ देने की कोशिश की है। पाकिस्तान के विरोध में कविता लिखने का मेरा प्रयास कितना सफल है यह तो आप सब ही तय करेंगें। तो आइये पढ़ते हैं यह आर्टीकल पाकिस्तान के विरोध में कविता

पाकिस्तान के विरोध में कविता, पाकिस्तान पर कविता, पाकिस्तान का विरोध करती कविता, पाकिस्तान के खिलाफ कविता इन हिंदी, पाकिस्तान के खिलाफ कविता, भारत पाकिस्तान पर कविता, पाकिस्तान के ऊपर कविता, निपटा देंगें पाकिस्तान, देशभक्ति कविता, देशभक्ति पर कविता

पाकिस्तान के विरोध में कविता, पाकिस्तान विरोधी शायरी, पाकिस्तान विरोधी कविता, पाकिस्तान पर कविता, पाकिस्तान का विरोध करती कविता, भारत-पाकिस्तान शायरी, भारत-पाकिस्तान कविता, पाकिस्तानी कविता, पाकिस्तान मुर्दाबाद शायरी, पाकिस्तान के खिलाफ शायरी इन हिंदी, पाकिस्तान के खिलाफ कविता इन हिंदी, पाकिस्तान के खिलाफ कविता, भारत पाकिस्तान पर कविता, कविता कश्मीर तो होगा लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा, पाकिस्तान के ऊपर कविता, निपटा देंगें पाकिस्तान, पाकिस्तान पर हास्य कविता, अमित मौलिक की कविता, अमित मौलिक देशभक्ति कविता, अमित मौलिक देशभक्ति कविताएं, कवि अमित मौलिक, कवि अमित मौलिक की कविताएं, kavi amit maulik ki kavitayein, kavi amit maulik, kavi amit maulik kavita, poet amit maulik, poet amit maulik ki kavita, poetry of poet amit maulik, poem of poet amit maulik, amit maulik patriotic poems, patriotic poem in hindi, pakistaan ke khilaf kavita, pakistaan virodhi kavita, pakistan virodhi kavita, pakistan ke khilaaf kavita, kavi amit jain maulik ki kavita, poet amit jain maulik, देशभक्ति कविताएं, देशभक्ति कविता, देशभक्ति पर कविता, वतन परस्ती पर कविता, देशभक्ति पर कविताएं, बेस्ट देशभक्ति कविता, बेस्ट देशभक्ति कविताएं, देशभक्ति कविता 2018, छोटी देशभक्ति कविताएँ, देशभक्ति कविता 2017, देशभक्ति कविता 2016, देशभक्ति कविता बच्चों के लिए, देश भक्ति कविता डाउनलोड, देश भक्ति बाल कविता, देश भक्ति कविता,

पाकिस्तान के विरोध में कविता

निपट जायेगा पाकिस्तान

सोच समझ ले एक बार तूँ, क्या होगा अंज़ाम
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान
ख़ैर नहीं इस बार मिटेगा, तेरा नाम – ओ – निशान
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान।

सियाचीन से कारगिल से, जूते मार भगाया
पैंसठ और इकहत्तर में भी, मुर्गा तुम्हें बनाया
गिड़गिड़ाये थे माफ़ करो, अब फिर ना ऐसा होगा
अल्ला की सौगन्ध खाई थी, की थी तौबा-तौबा
सुअरों वाली जात देखकर, दुनियां है हैरान
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान।

भीख माँगकर रहने वाले, इस तरहा न लड़ते
कुत्ते झुंडों में भी हों, शेरों से नहीं झगड़ते
बाज आओ इस बार तुम्हें न, हम फिर माफ़ करेंगें
स्वच्छ स्वस्थ अभियान चलाकर, कचरा साफ़ करेंगें
अब की बार बना देंगें हम, घर-घर क़ब्रिस्तान
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान।

अरे ज़ाहिलो सात गुना, तुमसे तादात हमारी
तूँ पिद्दी क्या तेरा शोरबा, क्या औक़ात तुम्हारी
सात फीट के बाप को बौना, बेटा तौले जाता
नाज़ायज़ बापों की शह में, बड़-बड़ बोले जाता
ओ गँवार निर्लज्ज खींच लेंगें हम, तेरी ज़ुबान
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान।

सोच समझ ले एक बार तूँ, क्या होगा अंज़ाम
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान
ख़ैर नहीं इस बार मिटेगा, तेरा नाम – ओ – निशान
निपट जायेगा पाकिस्तान, निपट जायेगा पाकिस्तान।

ये भी पढें – अमर शहीदों पर शानदार कविता

ये भी पढें – आग उगलती देशभक्ति कविता

पाकिस्तान के विरोध में कविता, पाकिस्तान विरोधी शायरी, पाकिस्तान विरोधी कविता, पाकिस्तान पर कविता, पाकिस्तान का विरोध करती कविता, भारत-पाकिस्तान शायरी, भारत-पाकिस्तान कविता, पाकिस्तानी कविता, पाकिस्तान मुर्दाबाद शायरी, पाकिस्तान के खिलाफ शायरी इन हिंदी, पाकिस्तान के खिलाफ कविता इन हिंदी, पाकिस्तान के खिलाफ कविता, भारत पाकिस्तान पर कविता, कविता कश्मीर तो होगा लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा, पाकिस्तान के ऊपर कविता, निपटा देंगें पाकिस्तान, पाकिस्तान पर हास्य कविता, अमित मौलिक की कविता, अमित मौलिक देशभक्ति कविता, अमित मौलिक देशभक्ति कविताएं, कवि अमित मौलिक, कवि अमित मौलिक की कविताएं, kavi amit maulik ki kavitayein, kavi amit maulik, kavi amit maulik kavita, poet amit maulik, poet amit maulik ki kavita, poetry of poet amit maulik, poem of poet amit maulik, amit maulik patriotic poems, patriotic poem in hindi, pakistaan ke khilaf kavita, pakistaan virodhi kavita, pakistan virodhi kavita, pakistan ke khilaaf kavita, kavi amit jain maulik ki kavita, poet amit jain maulik, देशभक्ति कविताएं, देशभक्ति कविता, देशभक्ति पर कविता, वतन परस्ती पर कविता, देशभक्ति पर कविताएं, बेस्ट देशभक्ति कविता, बेस्ट देशभक्ति कविताएं, देशभक्ति कविता 2018, छोटी देशभक्ति कविताएँ, देशभक्ति कविता 2017, देशभक्ति कविता 2016, देशभक्ति कविता बच्चों के लिए, देश भक्ति कविता डाउनलोड, देश भक्ति बाल कविता, देश भक्ति कविता,

 पाकिस्तान के विरोध में कविता

मिटा देंगें ऐ पाकिस्तान

मेरी बात को हल्के में ना, लेना ऐ नादान
जब चाहेंगें तुझे मिटा, देंगें ऐ पाकिस्तान।

बेवकूफ़ हो होड़ ये कैसी, इससे क्या है मिलना
मुन्ना राजा दौड़ ये कैसी, बाप से कैसी तुलना
किसी दीन का नहीं रहेगा, कहना मेरा मान
जब चाहेंगें तुझे मिटा देंगें, ऐ पाकिस्तान।

प्याज-नमक से काम चला, क्या बिरयानी का रोना
बोटी के चक्कर में रोटी, से तूँ हाँथ ना धोना
नंगी भूखी बैठी जनता, उसका कर कुछ ध्यान
जब चाहेंगें तुझे मिटा, देंगें ऐ पाकिस्तान।

भूल गये दो बार उतारा, भूत तुम्हारे सर से
फटी-फटी थी छोड़-छोड़ कर, भागे अपने घर से
नाक घिसी थी-पैर पड़े थे, तब बक्शी थी जान
जब चाहेंगें तुझे मिटा, देंगें ऐ पाकिस्तान।

कितनी इज़्ज़त और उतारें, बेशर्मी पर लानत
कितनी बार पटक कर मारा, फिर आई क्या शामत
हद में रह इस बार मुकर्रर, होगा कब्रिस्तान
जब चाहेंगें तुझे मिटा देंगें, ऐ पाकिस्तान।

कवि अमित मौलिक

यह प्रस्तुति पाकिस्तान के विरोध में कविता  आपको कैसी लगी। कृपया अपनी बहुमूल्य राय ज़रूर व्यक्त करें।

Similar Posts:

    None Found

Please follow and like us:
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!