देशभक्ति की शायरी इन हिंदी – Desh bhakti ki Shayari, तिरंगे पर शायरी

Buy Ebook

देशभक्ति की शायरी इन हिंदीउड़ती बात के सभी चाहने वालों को जय हिंद। इस पोस्ट  देशभक्ति की शायरी इन हिंदी में आपके सामने प्रस्तुत है देशप्रेम शायरी का शानदार संग्रह। 

26 जनवरी पर शायरी, 26 जनवरी शायरी, देश पर शायरी, गणतंत्र दिवस शायरी, 26th January shayari in hindi font, gantantra divas shayari, gantantra divas poem in hindi, gantantra divas poetry in hindi font, gantantra divas anchoring shayari in hindi, gantantra divas manch sanchalan shayari, pteriotic shayari in hindi font, udti baat deshbhakti shayari, udti baat gantantra divas shayari, गणतंत्र दिवस पर चार लाइन शायरी, गणतंत्र दिवस पर पंक्तियाँ, देशभक्ति गीत आधारित मंच संचालन शायरी, स्वन्त्रता दिवस पर चार लाइन शायरी, स्वन्त्रता दिवस शायरी, स्वन्त्रता दिवस की शायरी, 15 अगस्त शायरी, 15 अगस्त की शायरी, deshbhakti par char line shayari, 4 line deshbhakti shayari, देशभक्ति शायरी, देशभक्ति शायरी इन हिंदी, देशभक्ति शायरी इन हिंदी, स्वाधीनता संग्राम की शायरी इन हिन्दी, स्वंत्रता संग्राम की शायरी इन हिंदी, देश की शायरी इन हिंदी, स्वन्त्रता दिवस पर शायरी इन हिंदी, स्वतंत्रता दिवस की शायरी इन हिंदी, देशभक्ति पर चार पंक्तियाँ इन हिंदी, राष्ट्र पर शायरी, राष्ट्रीयता पर शायरी, स्वतंत्रता सेनानियों पर शायरी इन हिंदी, independence day par shayari in hindi, 15 august par shayari in hindi, independence day ki sanchalan shayari in hindi, Deshbhakti ki shayari in hindi, deshbhakti par shayari in hindi, swatantrta sangram par shayari in hindi, deshbhakti ki kavita in hindi, deshbhakti par kavita in hindi, amar shahidon par Shayari, गणतंत्र दिवस पर शायरी,  

देशभक्ति की शायरी इन हिंदी

इक दीप जलाकर कर श्रद्धा का
भीगी भीगी सी अंखियाँ कुछ
कुछ विनत भाव कुछ ह्रदय चाव
आज़ाद पार्क क़ुछ जलियाँ कुछ
बिस्मिल का दिल मन भगतसिँह
रग-रग में राजगुरु हों कुछ
आओ कर लें उस जज़्बे को
अर्पित फूलों की कलियाँ कुछ।

इक चमक ताब इक मदहोशी, हर आलम चंगा होता है
इक हूक हुमकती आँखों में, हर कतरा गंगा होता है
दिल में मतवाली मौज पले, मन सात आसमाँ छूता है।
जब जब अपने इन हाथों में, लहराता तिरंगा होता है।

ये भी पढें- तिरंगा शायरी

ये भी पढें- देशभक्ति कविता

तूफान हथेली पलते थे, नस-नस में इरादे फौलादी
तुम खून मुझे दो मैं दूंगा, तुम सबको मौलिक आज़ादी
नारे बन जाते अंगारे, लपटों में झुलसे ब्रिटिश सभी
यह नमन तुम्हें है महामहिम, स्वीकार करो हे नेताजी।

यह उहापोह यह सिरदर्दी, सब आपाधापी छोड़ो तुम
बासंती रंग में रंग जाओ, उलझन के फंदे तोड़ो तुम
यशगान हिमालय करता है, जिन वीरों की कुर्बानी का
उन मतवालों को याद करो, रंग आज तिरंगा ओढ़ो तुम।

 

 

इस देश की खातिर लड़ जाओ, वर्ना क्या रक्खा जीने में
हँसते हँसते सब लुटा दिया, इस देश पे अमर शहीदों ने
सर कफ़न बाँध कर चलते थे, मदमस्त रहे संगीनों में
भारत माता के लालों ने, गोली खाई थी सीने में।

दृढ़ता हो लौह पुरुष जैसी, कुछ भगत सिंह सी मस्ती हो
नेताजी जैसा ओज मिले, आज़ाद के जैसी हस्ती हो
उधम का उधम दिल बिस्मिल, मंगल पांडे का ताव मिले
हे ईश्वर जन्म दुबारा दो तो, भारत माँ की छांव मिले।

कुछ कृष्ण बने कुछ बलदाऊ कुछ अर्जुन परशुराम हुये
अल्फ्रेड पार्क आज़ाद अड़े या स्वयँ वहाँ श्री राम लड़े
यह वतन परस्ती सज़दा थी शामिल इसमें भगवान हुऐ
झाँसी जैसे कितने तीरथ और जलियाँवाले धाम हुये।

यह तन तेरा दिल मन तेरा, ऐ वतन कहो तो मैं मर जाऊं
जब रुत आये मर मिटने की, तो कफ़न तिरंगा कर जाऊं।

मेरा नई देशभक्ति की शायरी का वीडियो देखना ना भूलें। पसंद आये चैनल को सब्सक्राइब अवश्य करें। यह पूर्णतः फ्री है – 

 

देशभक्ति की शायरी इन हिंदी पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बतायें।

Similar Posts:

Please follow and like us:
26 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!