इंदिरा गांधी : इंदिरा गांधी पर कविता, इंदिरा गांधी पर विशेष कविता, Indira Gandhi kavita hindi, poem on Indira Gandhi in hindi

 

इंदिरा गांधी पर कविता Indira Gandhi poem hindi

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी एकमात्र ऐसी पहली और आख़िरी महिला प्रधानमंत्री थीं जिन्हें लौह महिला के नाम से पूरी वैश्विक दुनिया मे जाना जाता था। हिंदुस्तान इंदिरा गांधी के अतुल्य योगदान को कभी नहीं भुला सकता। मेरी यह कविता उनके अमिट योगदान के नाम समर्पित है।

इंदिरा गांधी पर कविता

जिसको दुनिया ने लोहे की,
महिला कह कर के पुकारा था
जिसे अटल बिहारी जी ने तब,
दुर्गा कह करके सराहा था
वह आंधी इंदिरा गांधी थी,
जिसमें था पकिस्तान उड़ा
यशगान आज उसका कर लो,
जिसने गौरव दिलवाया था।

तेरह बसंत की आयु में,
वानर सेना इक निर्मित की
आज़ादी की ख़ातिर इंदिरा,
तन मन से पूर्ण समर्पित थीं।
जो जुटीं तो पीछे ना देखा,
बस आंगें कदम बढ़ाया था
यशगान आज उसका कर लो,
जिसने गौरव दिलवाया था।

जिसने परमाणु बम का बल,
इच्छाशक्ति से दिलवाया
हुंकार पोखरण में भरकर,
जब बड़ा धमाका करवाया
काँपा था चीन इरादों से,
इक महिला से घबड़ाया था
यशगान आज उसका कर लो,
जिसने गौरव दिलवाया था।

उन्हें प्रियदर्शनी कहते थे
टैगोर नेह बरसाते थे,
मोरारजी गूंगी गुड़िया कह
जिसको दिन रात चिढ़ाते थे
नेहरू जी की बेटी थीं पर
जन जन उन पर इतराया था
यशगान आज उसका कर लो,
जिसने गौरव दिलवाया था।

👇 ये भी पढ़ें 👇

◆ तिरंगा शायरी देशभक्ति शायरी

◆ मतदाता जागरूकता पर तेजाबी कविता

Poem on Indira Gandhi

jisko duniya ne lohe kee,
mahila kah kar ke pukaara tha
jise atal bihaaree jee ne tab,
durga kah kar ke saraaha tha
wah aandhee indira gaandhee thi
jisme tha pakistaan uda
yash gaan aaj uska kar lo,
jisne gaurav dilvaaya tha.

terah basant kee aayu me,
vaanar sena ik nirmit kee
aazaadee kee khaatir indira,
tan man se poorn samarpit thee.
jo juteen to peechhe na dekha,
bas aangen kadam badhaya tha
yash gaan aaj uska kar lo,
jisne gaurav dilvaaya tha.

jisne parmaanu bam ka bal,
ichchhaa shakti se dilvaaya
hunkaar pokhran me bharkar,
jab bada dhamaaka karvaaya
kaanpa tha cheen iraadon se,
ek mahila se ghabraaya tha
yash gaan aaj uska kar lo,
jisane gaurav dilvaaya tha.

unhen priya darshini kahte the
taigor neh barsaate the,
moraar jee goongee gudiya kah
jisko din raat chidhaate the
nehru ji ki beti theen par
jan jan un par itraaya tha
yash gaan aaj uska kar lo,
jisne gaurav dilvaaya tha.

Similar Posts:

loading...
Please follow and like us:

अगर आप लेखक, कवि, शायर या कहानीकार हैं और अपनी कलम का जादू दुनिया के सामने लाना चाहते हैं तो आप अपनी रचनायें (creations), आर्टिकल्स (articles), कहानियाँ (stories) हमें [email protected] पर मेल करें। हम उसे आपके नाम से प्रकाशित करेंगें लेकिन आपकी रचनायें या लेख पत्रिका, ब्लॉग, अख़बार या किसी वेबसाइट पर प्रकाशित नहीं होनी चाहिये अथवा कहीं से कॉपी की हुई नहीं होनी चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!