सामाजिक कवितायें Archive

महिला उत्पीड़न के विषय पर एक खरी खरी कविता। Poetry on Women’s Harassment । poem on women empowerment in hindi

कविता-प्रश्न तो है! चरित्र और मर्यादा! जिसने भी गढ़े होंगे ये शब्द, बड़ा व्यापक हेतु रहा होगा। शायद आचार का निर्धारण और निष्ठा का पालन कहा होगा। प्रतिपादित किये गये होंगे सम्भवतः ‘सर्व गुण संपन्न’ मदांध-नियंताओं और सामंतो के लिये। किन्तु थोप दिये गये, पुरुषों के पैरोकारों द्वारा, कुशलतापूर्वक स्त्रियों पर। समर्थन मिलना ही था,

बुलेट ट्रैन की उपयोगिता पर एक आलोचनात्मक कविता। जापानी बुलेट ट्रैन प्रोजेक्ट पर कविता। jaapaanee bullet train project par kavita

  भारत में चलेगी जापानी बुलेट ट्रैन। अभी अभी जापान के माननीय प्रधानमंत्री जी भारत के दौरे पर पधारे थे। इस राजनैतिक दौरे की महत्वपूर्ण उपलब्धि भारत मे बुलेट ट्रैन चलाने के प्रोजेक्ट पर अनुबन्ध और जापान द्वारा एक भारी राशि बहुत ही कम प्रतिशत पर कर्जे के रूप में उपलब्ध कराना रही। निश्चित रूप

रेयान इंटरनेशनल स्कूल के छात्र प्रद्मन पर कविता। स्कूलों में बच्चों पर हो रहे उत्पीड़न पर कविता। शिक्षा पद्धति पर ज्वलंत प्रश्न उठाती एक कविता। स्कूलों की मनमानी पर एक हाहाकारी कविता

  ग्रेटर नोएडा के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के बच्चे प्रधुम्न की हत्या ने समूचे देश में एक तूफान खड़ा कर दिया। वैसे तो स्कूलों में बाल छात्रों के उत्पीड़न की घटनाएं गाहे-बगाहे सामने आती रहीं हैं। लेकिन इस बार की यह घटना एक हाईप्रोफाइल स्कूल और एक सम्पन्न परिवार से जुड़ी हुई

हिंदी दिवस पर शानदार कविता। हिंदी दिवस कविता। हिंदी पर बहुत ही सुंदर कविता।

    आज हिंदी दिवस पर अपनी मातृ भाषा हिंदी को समर्पित यह मेरी रचना सभी हिंदी प्रेमियों को भेंट है। देवोपुनीत भाषा संस्कृत के बाद अगर कोई भाषा सर्वोपरि मानी जायेगी तो वो हिंदी भाषा है। संस्कार, संस्कृति, आदर, नेह, सौहाद्र और समपर्ण सिखाने वाली भाषा अगर कोई है तो वो हिंदी ही है।

गुरु पर कविता। गुरु की महिमा पर कविता। शिक्षक दिवस पर कविता। शिक्षक दिवस कविता। poem on teachers day

      घोर अमावस रात में, नीरवता इतराय वैसे ही अज्ञान में, कुमति पुष्ट हो जाय। मति है नीरज तुल्य ये जानो, ह्रदय पात्र सम है ये मानो जैसा इसमें द्रव्य मिलाओ, जस का तस परभाव विचारो। नीम मिलाओ कड़वा पानी, कर्कशता ना जाय बखानी घोलो इसमें शहद चासनी, सरस मधुरतम होवे प्राणी।। घोला

शिक्षक दिवस पर कविता । शिक्षक दिवस पर दोहे । teachers day poem in hindi

सद्गुरु के उपकार को, कोउ चुका न पाय रंग चोखो लग जात है, उतरे न उतराय। पिता जन्म देता महज़, कच्ची माटी होय गुरुजनों के शिल्प से, मिट्टी मूरत होय। अवगुण कुमति निहार के, गुरु देवें मुस्काय ज्यों लख उत्तम शिला को, शिल्पकार हर्षाय। अंधकार चहुँ दिशि घना, रात अमावस आय रवि सम सतगुरु देत

Birthday wishes Poem for Girlfriend । जन्मदिन की शुभकामनाओं पर कवितायें । Birthday wishes Poem for Boyfriend

Birthday wishes Poem for Girlfriend क्या सौगात तुम्हें मैं दे दूँ जो चाहो वो मांगो तुम चाँद सितारे तोडूं जाकर नूर फ़िज़ा का मांगो तुम। दिल तो चाहे यार की खातिर ख़ुशी जहाँ की लाऊं मैं दिन है प्यारा दिल का क्या है यार पे जान लुटाऊँ मैं। Birthday wishes Poem for Boyfriend शुभ हो

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर हाहाकारी कविता । UP CM yogi adtiyanath par hahakaari Kavita

    अब भगवा कहो या केशरिया, सर चढ़कर के रंग बोला है उत्तर ने उत्तर खोज लिया, यू पी योगी संग डोला है। आवाम घरों से निकल पड़ी, यूपी भगवा रंगी कर दी गुलफ़ाम ख़लीफ़ा जितने थे, तवियत उनकी चंगी कर दी। दुर्दिन दशकों के सुलग उठे, इक धुवाँ गगन पर छाया है आक्रोश

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती विवाद पर कविता । sanjay leela bhansali vivad par kavita

किस तरहा के कौन से मद में, चूर अड़े हो बोलो तो किस मिट्टी पर जन्म लिया है, कहाँ खड़े हो तोलो तो। खूब बने हो तरफदार तुम, भांडों वाली जाती के मुखिया बन बैठे हो जैसे, ताली वाली थाती के। • कविता-देश का हाल • नोट बंदी के विरुद्ध भारत बंद पर कविता केवल खिलज़ी मिला

नारी सशक्तिकरण पर कविता । Poem on women empowerment

अहद उठी है ताब सी, जिगर में एक आब सी हुमक उठी है गर्जना, प्रपंच हैं ये वर्जना। सदा नियम रिवाज़ में, ये वंश ये समाज में युगों से बात बात में ,कुलों में और ज़मात में। सदा ही नार तिक्त क्यों, है भीड़ मगर रिक्त क्यों हे रंजना हे संजना, करो तो कोई वंचना।