श्री महावीर भगवान का मंगला चरन । Shri Mahaveer bhagwaan ka mangla charan

Buy Ebook

श्री महावीर भगवान का मंगला चरणजिओ और जीने दो का अनुपम संदेश देने वाले भगवान महावीर स्वामी के अहिंसा परमोधर्मः एवम अपरिग्रहवाद के उपदेश स्वकल्याण के पथिकों के लिये अमोघ शक्ति की तरह हैं। आज के इस आर्टिकल श्री महावीर भगवान का मंगला चरन के द्वारा अपने परम ईश, देवाधिदेव 1008 श्री महावीर स्वामी से उनके जन्मोत्सव पर मैं प्रार्थना करता हूँ कि हे जगत नियंता, हमारी जिव्हा, हमारे दिल, हमारे आत्मा में ऎसे बस जाओ की हमें केवल और केवल आपकी ही अनुभूति हो, चिर आनंद की अनुभूति हो।

आज तिथि 29 मार्च दिन गुरुवार को महावीर स्वामी का 2613 वां जनमोत्स्व है एवम अखिल विश्व में हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। जैन आम्नाय की भाषा में इसे महावीर जयंती , श्री महावीर स्वामी जयंती, श्री महावीर भगवान का जन्म कल्याणक महोत्सव भी कहा जाता है। आप सभी पाठकों को उड़ती बात की ओर से मैं अमित जैन ‘मौलिक’ ह्र्दयतल से ये शुभ कामना प्रेषित करना चाहता हूँ कि दयालु भगवान वर्धमान हर किसी मनोकामना पूर्ण करें। 

श्री महावीर जयंती पर कविता, महावीर जयंती कविता, महावीर जयंती प्रार्थना, महावीर जयंती पर स्तुति, श्री महावीर स्वामी की विनती, महावीर भगवान पर मंगलाचरण, श्री महावीर जन्मोत्सव पर कविता, श्री महावीर जन्मकल्याणक पर कविता, जैनों की स्तुति, जैन धर्म की प्रार्थना, श्री महावीर स्वामी वंदना, भगवान 1008 श्री महावीराय स्वामी, भगवान महावीर,

श्री महावीर भगवान का मंगला चरन

जय वर्धमान महा जिनेश्वर, हमको सन्मति दान दो
प्रभु आज रसना में बसो, महावीर हो महादान दो।

रहे शंक ना भय रंच ना, कोई पंक ना मम उर बसे
कोई द्वन्द ना कोई दम्भ ना, तेरी वंदना अधरन सजे
सब शूल फूल बना दो भगवन, अधर जिनपद गान दो।

ये भी पढ़ें – भगवान बाहुबली पर महाकविता

ये भी पढ़ें – आचार्य श्री विद्यासागर महाराज पर कविता

ये भी पढें – श्री गणेश वंदना

ये भी पढें- दान पर शानदार शायरी

कोई गाँठ ना हो पाप की, संताप की क़ुछ यूँ करो
बहे लहर तेरे प्रताप की, बस आप की कुछ यूँ करो
तव वरद हस्त उठा दो भगवन, सुख मई संसार हो।

विश्वेश हों श्री जिनेश हों, कुछ शेष हृदय रहे नहीं
अंतःकरण श्री विशेष हों, क़ुछ लेश मात्र बसे नहीं
अविचल बनूं तुझमें बसूं, तुमसा बनूँ प्रभु राह दो।

हम हीन हैं हम दीन हैं, तुम्हें दीनवन्धु कहें प्रभु
मनोबल हमारे क्षीण हैं, गुण गान कैसे करें प्रभु
‘मौलिक’ सरल कर दो सबल, हर स्वांस में नवकार दो।

आपको यह आर्टिकल श्री महावीर भगवान का मंगला चरण कैसा लगा। अवश्य बतायें

Similar Posts:

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *