माँ पर ग़ज़ल : माँ पर ख़ूबसूरत ग़ज़लों की प्रस्तुति- Maa gazals

Buy Ebook

माँ पर ग़ज़ल

माँ पर ग़ज़ल – दोस्तो, आपके सामने प्रस्तुत है माँ पर दो ऐसी ग़ज़लें जिन्हें पढ़कर आप वाह किये बिना नहीं रहेंगें। 

माँ पर ग़ज़ल-माँ का मुक़द्दर

ज़न्नत वहीं दिखती है जहाँ घर होता है।
माँ जब ख़ुश होती है तो असर होता है।

माँ आँखे खोलती है तो रौशनी होती है
अंधेरा रोज मेरे घर मे दर बदर होता है।

मैं माँ के कदमों को छू कर निकलता हूँ
फिर दोस्त मेरा ये सारा शहर होता है।

माँ आज भी मुझे सज़दे में ही मिलती है
मुझे घर आने में वक़्त अगर होता है।

राजा बेटा कहती माँ तो सबको मिलती है
राजा बेटा मिले माँ का मुक़द्दर होता है।

?ये भी पढें?

माँ पर शानदार ग़ज़लें

◆दो बेहद दिलकश ग़ज़लें

Maa par Gazal-Maa ka muqaddar

Zannat wanhi dikhti hai
jahaan ghar hota hai
Maa jab khush hoti hai
to asar hota hai.

maa aankhen kholti hai
to roshni hoti hai
andhera roz mere ghar me
dar badar hota hai.

mai maa ke kadmo ko
chhoo kar nikalta hoon
fir dost mera ye saara
shahar hota hai.

maa aaj bhi mujhe
sajade me hi miltee hai
mujhe ghar aane me
waqt agar hota hai

raaja beta kahti maa to
sabko miltee hai
raaja beta mile maa ka
muqaddar hota hai.

माँ पर ग़ज़ल-माँ की बात और ही है

होगा अपनी जगह समंदर, माँ की बात और ही है
इश्क़ लबालब दिल के अंदर, माँ की बात और ही है।

लोबानों से नज़र उतारी, आज ख़ूब माँ ने मेरी
अला बला पल में छूमंतर, माँ की बात और ही है।

रहमत नेमत रहम करम सब, चुटकी में मिल जाते हैं
ईश्वर अल्लाह पीर पैगम्बर, माँ की बात और ही है।

उम्मीदेँ तो देखो माँ की, आसमान छू जाती हैं
‎इक दिन होगा लाल सिकंदर, माँ की बात और ही है।

बेटे की ख़ातिर मन्नत में, फ़ाक़ा करके सोई है
इत्मीनानी रुख़ पर मंज़र, माँ की बात और ही है।

Maa par Gazal-Maa ki baat aur hi hai

Hoga apni jagah samandar,
maa kee baat aur hee hai
ishq labaalab dil ke andar,
maa kee baat aur hee hai.

lobaanon se nazar utaari,
aaj khoob maa ne meri
ala bala pal me chhoo mantar
maa kee baat aur hee hai.

rahmat nemat raham karam sab,
chutkee me mil jaate hain
eeshvar allaah peer paigambar,
maa kee baat aur hee hai.

ummeeden to dekho maan ki,
aasmaan chhoo jaati hain
ik din hoga laal sikandar,
maa kee baat aur hee hai.

bete ki khaatir mannat me,
faaqa karke soi hai
itmeenaani rukh par manzar,
maa kee baat aur hee hai.

Similar Posts:

Please follow and like us:
12 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *