मंच संचालन के 10 महत्वपूर्ण नियम-पार्ट 2 । Anchoring ke 10 important rules -part 2

Buy Ebook

 

 

अगर आप एक anchor के रूप में प्रतिष्ठित हैं तो यह post आपके लिये बहुत उपयोगी साबित हो सकता है। यह post मेरे पिछले लेख मंच संचालन के 10 महत्वपूर्ण नियम का अगला भाग है। पिछले post में मैंने पूर्व नियोजित मंच संचालन (planned Anchoring) करने की technics के बारे में 10 tips बताये थे। planned Anchoring के tips जानने के लिये पढ़ें-

 

♦-मंच संचालन करने के 10 महत्वपूर्ण नियम

 

कई बार ऐसी परिस्थितयाँ उत्पन्न होती हैं कि, अचानक तुरंत ही आपसे किसी ऐसे कार्यक्रम की Anchoring करने के लिये आग्रह किया जाता है जिसके विषय के बारे में आप कोई जानकारी नहीं रखते या आपका कोई homework उस event के विषय के बारे में नहीं होता।

चूँकि आप एक anchor के रूप में जाने जाते हैं इसलिये लोगों की आपसे ऐसी अपेक्षा होती है कि आप इसे बखूबी निभा लेंगें। तात्कालिक Anchoring का offer आने के कई कारण हो सकते हैं:-

 

1-पहले से निर्धारित Anchor की अचानक किसी emergency में फंस जाने के कारण अनुपलब्धता।
2-अचानक ही event तय होना जिसकी planning के लिए और व्यक्तिगत भूमिका सुनिश्चित करने के लिए समय न मिल पाना।
3-निर्धारित anchor की योग्यता पर संदेह होना
4-emergency में चयनित Anchor से ज्यादा बेहतर Anchor का विकल्प उपलब्ध होना।

 

 

ये भी पढें-स्थापना दिवस की मंच संचालन स्क्रिप्ट
ये भी पढें-26 जनवरी की मंच संचालन स्क्रिप्ट
ये भी पढ़ें-वार्षिकोत्सव की मंच संचालन स्क्रिप्ट

 

 

इस प्रकार के क़ुछ और भी कारण हो सकते हैं जिससे तात्कालिक मंच संचालक की आवश्यकता पड़ सकती है-पड़ जाती है। ऐसे कार्यक्रम की प्रस्तुति में आत्मविश्वाश, आपका अनुभव, औऱ आपकी सहज बुद्धि ही आपके हथियार (tools) होते हैं जिनकी सहायता से, चरण दर चरण जो घटता जाता है या घटने वाला होता है, उसे आप शब्दों का अमलीजामा पहनाते चले जाते हैं।

अगर ऐसी आकस्मिक परिस्थियों में आपको Anchoring करनी पड़े तो क्या करना चाहिये और क्या नहीं करना चाहिये, समझने के लिये जानते हैं..

 

-:मंच संचालन के 10 महत्वपूर्ण नियम-पार्ट 2:-

 

1-ना घबरायें-ना घबराहट जताएं:-

अगर आप मंच संचालन का बृहद अनुभव रखते हैं और आपकी प्रतिष्ठा इस क्षेत्र में अच्छी है तो आपको अपनी साख कायम रखने की चिंता सता सकती है। लेकिन मेरा सुझाव है कि आप सहज रूप से, चुनौती मानकर इस प्रस्ताव को स्वीकार करें जो कि आपकी साख में बृद्धि करेगा और आपको आत्मविश्वास से लबरेज़ करेगा।

अगर आप नये-नये anchoring के क्षेत्र में आये हैं या हालिया ही आपने 2-4 कार्यक्रमों की Anchoring की है, तो भी आप घबरायें नहीं और इस प्रस्ताव को विश्वास पूर्वक स्वीकार करें। और अगर घबराहट होती भी है तो उसे ज़ाहिर ना करें। (समय 0 मिनिट)

Similar Posts:

Please follow and like us:
8 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *