प्रेम का गीत । मोहब्बत का गीत । Love geet । Romantic geet

Buy Ebook

pexels-photo-186447

कोई तो सपना टूट गया है
कोई तो अपना छूट गया है
हम ख़ुद से हो गए बेगाने
हमसे हमारा रूठ गया है
कैसी मुरादों वाली ये बोली
कैसी है वादों वाली बोली
शहद में लिपटी ज़हर की गोली
देकर कोई लूट गया है
किसको दूँ तोहमत किसको दुहाई
हमको मुहब्बत रास ना आयी
फुरकत वाली कड़वी दवाई
वाला गले में घूंट गया है
धड़कन धड़कन इक बेईमानी
नस नस दौड़ा पीर का पानी
आँख से बरसी नीर की बदली
बाँध नदी का फूट गया है
मोड़ गली सब वहीँ खड़े हैं
हवा के झोंके ज़िद पे अड़े हैं
रुसवाई के रोज ढिंढोरे
आलम सारा पीट रहा है

Similar Posts:

Please follow and like us:
error

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *