देवी गीत । Devi Geet

Buy Ebook

20081123095816durga_mahisasuramardini

देवी गीत 

जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते 

मैया मेरी मैया मेरी, कृपा करो कृपा करो
कब से पड़ी अर्जी मेरी, कृपा करो कृपा करो

नतेभ्यः सर्वदा भक्त्या, चण्डिके दुरितापहे
रूपं देहि जयं देहि, यशो देहि द्विषो जहि
दुख हरण करने वाली हो, तुमको बारम्बार नमन
सर्वेस्वरी कृपा करदो अब, आये हैं तेरी शरणम
सुख करणी दुख हरणी, कृपा करो कृपा करो

देहि सौभाग्यमारोग्यं, देहि मे परमं सुखम्
रूपं देहि जयं देहि, यशो देहि द्विषो जहि
रोग नशे सब शुभ बरसे तब, जब सुमिरन कर लेते हैं
चाहे जितने भक्त हों दर पै, झोली भर भर लेते हैं
विनती मेरी विनती मेरी, कृपा करो कृपा करो 

देवी गीत 

हो मेरी अम्बे जग्दम्बे, मेरी मैया जग्नामी
हो माँ गौरी माँ काली, कृपालु माँ भवानी
लहर लहर लहराये, लाल चुनरिया सर पे
दुनिया शीश झुकाये, मैया तेरे दर पे

धूप छाँव बस तेरी कृपा है
सुख दुख खालिश तेरी दया है
कितने जीवन बीत गये माँ
कैसे कहें क्या हमने सहा है
हम भी अर्जी लाये मैया तेरे दर पे
लहर लहर लहराये…

किस विधि तुम्हें दिखाउं मैया
अपने मन के छालो को
या फिर आकर हमें बता दो
किससे कहूँ सवालों को
हम कुछ कहने आये मैया तेरे दर पै
लहर लहर लहराये….

Similar Posts:

Please follow and like us:
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *