डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ । 13 Great achievements of baba saheb Dr.bhimrao ambedkar

Buy Ebook

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ – दोस्तो, वैसे तो महामना डॉ भीमराव अम्बेडकर की उपलब्धियों के बारे में हम सभी ही बहुत कुछ जानते हैं। उन्होंने इतना कुछ हासिल किया है, इतना कुछ लिखा है, इतना कुछ दिया है कि उसको एक लेख में समाहित करना एक कठिनतम बात है। आज के इस लेख डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ के द्वारा उनके योगदान को नमन करना चाहता हूँ।

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ, 13 Great achievements of baba saheb Dr. bhimrao ambedkar, अम्बेडकर की उपलब्धियाँ, अम्बेडकर की बायोग्राफी, अम्बेडकर की जीवनी, महान नेता डॉ भीमराव अम्बेडकर, the great leader dr. Br ambedkar, the great leader dr bhimrao ambedkar, fact and figure of dr. Br ambedkar, अम्बेडकर पर लेख, अम्बेडकर पर निबंध, अम्बेडकर पर आर्टीकल, अम्बेडकर पर भाषण, अंबेडकर पर भाषण इन हिंदी, स्पीच ऑन अम्बेडकर, अम्बेडकर के बारे में कुछ जानकारी, भारत रत्न भीमराव अंबेडकर, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर भाषण, बाबासाहेब आंबेडकर पर भाषण, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर यांचे कार्य निबंध, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर

 

दोस्तो, बड़ी ही हिम्मत की बात होती है कि एक दलित का बेटा जिसे स्कूल में पानी पीने के लिये घड़ा छूने की अनुमति ना हो और वो इस छुआछूत की टीस को चुनौती के रूप में लेकर इतना काबिल बन जाये कि भारत का संविधान निर्माता तक का दर्जा प्राप्त कर ले।

बड़ी ही हिम्मत की बात होती है कि उनके समकालीन देश के सबसे ताकतवर इंसान महात्मा गाँधी की नीतियों से खुलेआम असहमति दर्ज करना और उनका पुरज़ोर विरोध करना। गिने चुने ताकतवर लोगों में मुस्लिम नेता मोहम्मद अली जिन्ना के धुर विरोधी एवम एक विराट हिन्दू राष्ट्र में हिंदुओं की अश्पृश्यता की संकीर्ण मानसिकता का खुले आम विरोध, लगातार विरोध करने वाले अम्बेडकर बहुत ही जीवट और अद्वितीय विद्वान थे। उनकी तार्किक शक्ति उनकी वक्तव्य प्रतिभा इतनी प्रखर थी कि लोग उनके अकाट्य तथ्यों और तर्कों का सामना करने से घबड़ाते थे।

लेकिन उस समय के राष्ट्रीय नेतागणों और हमारे देश के स्वतंत्रता आंदोलन के कर्णधारों के बीच अलग-अलग विचारधारा होते हुये भी एक दूसरे के प्रति सम्मान और आदरभाव था। विचार अलग हो सकते हैं, मत अलग हो सकते हैं, थे भी लेकिन सभी राष्ट्रीय नेता बाबासाहेब आंबेडकर की विद्वता और देशभक्ति को पूर्ण आदर दिया करते थे और बाबा साहेब भी उतना ही सम्मान उन सभी का किया करते थे। आज के समय इस तरह की शुचिता और देश के प्रति समग्र सोच प्रायः ही देखने को मिलती है।

केवल दलितों के लिये ही नहीं बाबासाहेब आंबेडकर ने स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भागीदारी की एवम स्वतंत्र भारत का संवैधानिक नवनिर्माण करने में अमिट योगदान दिया। मैं यह लेख दलित वर्ग को समर्थन देने या उनके आरक्षण सम्बंधी विचारधारा को पुष्ट करने के लिये नहीं लिख रहा हूँ। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर किसी भी जाति विशेष या वर्ग विशेष की संपदा नहीं हैं। वो समग्र देश के हैं और रहेंगें। तो आइये डालते हैं एक नज़र आज के विषय –

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की
13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ 

गिने-चुने ही महान भारतीय रहे हैं जिन्होंने इतनी उच्च शिक्षा अर्जित की। डॉ बाबासाहेब आंबेडकर ने एम ए , पी एच डी , डी एस सी, एल एल डी, डी लिट , बार-एट-लॉ सहित टोटल 32 डिग्रियाँ अर्जित कीं। जो कि उन्होंने मुंबई विश्विद्यालय, कोलम्बिया विश्विद्यालय अमेरिका, लंदन विश्वविद्यालय यू. के. , लंदन स्कूल्स ऑफ इकोनॉमिक्स यू. के. , बर्लिन विश्वविद्यालय जमर्नी आदि से प्राप्त की। सोर्स – विकिपीडिया

Dr BR Ambedkar उन 45 गिनी-चुनी महान शख्सियतों में शामिल हैं जिन्हें भारत का सर्वोच्च सम्मान अलंकरण भारत रत्न से सम्मानित किया गया है।

डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ, 13 Great achievements of baba saheb Dr. bhimrao ambedkar, अम्बेडकर की उपलब्धियाँ, अम्बेडकर की बायोग्राफी, अम्बेडकर की जीवनी, महान नेता डॉ भीमराव अम्बेडकर, the great leader dr. Br ambedkar, the great leader dr bhimrao ambedkar, fact and figure of dr. Br ambedkar, अम्बेडकर पर लेख, अम्बेडकर पर निबंध, अम्बेडकर पर आर्टीकल, अम्बेडकर पर भाषण, अंबेडकर पर भाषण इन हिंदी, स्पीच ऑन अम्बेडकर, अम्बेडकर के बारे में कुछ जानकारी, भारत रत्न भीमराव अंबेडकर, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर भाषण, बाबासाहेब आंबेडकर पर भाषण, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर यांचे कार्य निबंध, डॉ बाबासाहेब आंबेडकर, आंबेडकर शायरी

ये भी पढ़ें – डॉ बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर पर शायरी

ये भी पढें – अम्बेडकर जयंती पर एंकरिंग स्क्रिप्ट

2012 में CNN IBN एवम history channel की सयुंक्त तत्वाधान में outlook पत्रिका द्वारा, जिसे रिलायंस ने प्रायोजित किया था, एक अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण ‘आज तक का सबसे महान भारतीय’ किया गया था। इस सर्वेक्षण में जवाहर लाल नेहरू, भगतसिंह जी, ए पी जे अबुलकलाम जी, बल्लभ भाई पटेल से लेकर विनोबा भावे जी, इंदिरा गांधी जी एवम मदर टेरेसा जैसीं महान विभूतियों को शुमार किया गया था जिसमें डॉ अम्बेडकर जी को 2 करोड़ से ज्यादा मत मिले थे और वो श्रेष्ठतम भारतीय साबित हुये थे। सोर्स -विकिपीडिया

भारत में रिजर्व बैंक आॅफ इण्डिया की स्थापना डॉ. अम्बेडकर द्वारा लिखित ‘रूपये की समस्या-उसका उदभव तथा उपाय‘ और ‘भारतीय चलन व बैकिंग का इतिहास‘ शोध पुस्तकों के आधार पर हुई। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

उनके दूसरे शोध ग्रंथ ‘ब्रिटिश भारत में प्रांतीय वित्त का विकास‘ के आधार पर देश में वित्त आयोग की स्थापना हुई। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सकार

उन्‍होंने भारतीय संविधान को 02 वर्ष 11 महीने और 17 दिन के कठिन परिश्रम से तैयार किया। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

उन्होंने निर्वाचन आयोग, योजना आयोग, वित्त आयोग, महिला पुरुष के लिये समान नागरिक हिन्दू संहिता, मौलिक अधिकार, मानवाधिकार की नीति बनाई। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

राज्य के तीनों अंगों न्यायपालिका, कार्यपालिका एवं विधायिका को स्वतंत्र और पृथक बनाया। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम और विधिक हडताल के अधिनियमों को श्रमिकों के कल्याणार्थ निर्माण किया। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

श्रम मंत्री की हैसियत से श्रम कल्याण के लिए श्रमिकों का कार्य-समय 12 घण्टे से घटाकर 8 घण्टे, समान कार्य समान वेतन, प्रसूति अवकाश, संवैतनिक अवकाश, कर्मचारी राज्य बीमा योजना, स्वास्थ्य सुरक्षा, कर्मचारी भविष्य निधि अधिनियम आदि की स्थापना की। सोर्स – पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार

Dr. भीमराव अंबेडकर दुनिया के उन गिने चुने ख़ास चार शख्सियतों में शामिल हैं जिन्होंने सन 1096 में स्थापित दुनिया की सबसे पुरानी, बड़ी और सबसे आला दर्जे की यूनिवर्सिटी ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय से 4th द मेकर्स ऑफ द यूनिवर्स ( दुनिया में महान बदलाव लाने वाले चौथे व्यक्ति ) का महान पुरुस्कार जीता। सोर्स -विकिपीडिया

Dr. भीमराव अंबेडकर ने ‘पहले’ कोलंबियन अहेड ऑफ देअर टाईम ( कोलंबिया का सबसे उत्कृष्ट छात्र) का प्रतिष्ठित अवार्ड जीता। सोर्स – विकिपीडिया

Dr भीमराव अम्बेडकर ने बौद्ध धर्म में बोधिसत्व की दशा एवम स्थान प्राप्त किया। जो कि कठिन साधना के बाद उपलब्ध होती है। दस पारमिताओं (मुदिता, विमला, दीप्ति, अर्चिष्मती, सुदुर्जया, अभिमुखी, दूरंगमा, अचल, साधुमती, धम्म-मेघा) का पूर्ण पालन करने वाला बोधिसत्व कहलाता है। सोर्स -विकिपीडिया

उपलब्धियां और भी ढेरों हैं लेकिन मुख्यतः मैंने यहाँ उल्लिखित की हैं। आशा है इस लेख डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की 13 आश्चर्यजनक उपलब्धियाँ से आपको काफी कुछ जानने को मिला होगा। जय हिंद

Similar Posts:

    None Found

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!