कविवर भूधरदास जी कृत बारह भावना। Kavivar Bhudhar das ji krit barah bhawana

                   

बारह भावना

राजा राणा छत्रपति, हाथिन के असवार ।
मरना सब को एक दिन, अपनी-अपनी बार ॥
दल बल देवी देवता, मात-पिता परिवार ।
मरती बिरिया जीव को, कोऊ न राखन हार ॥
दाम बिना निर्धन दुखी, तृष्णा वश धनवान ।
कबहूँ न सुख संसार में ,सब जग देख्यो छान ॥

 

ये भी पढ़ें: महावीर भगवान का मंगलाचरण 
ये भी पढें: आचार्य श्री विद्यासागर जी पर कविता

 

आप अकेला अवतरे , मरे अकेला होय ।
यो कबहूँ इस जीव को ,साथी सगा न कोय॥
जहाँ देह अपनी नहीं, तहां न अपना कोय ।
घर सम्पति पर प्रकट ये, पर हैं परिजन लोय।।
दिपै चाम-चादर मढ़ी, हाड़ पींजरा देह ।
भीतर या सम जगत में, और नहीं घिन गेह।।
मोह नींद के जोर, जगवासी घूमें सदा ।
कर्म चोर चँहु ओर, सरवस लुटैं सुध नहीँ॥
सतगुरु देय जगाय, मोहनींद जब उपशमैं ।
तब कछु बनहिं उपाय, कर्म चोर आवत रूकै॥
ज्ञान-दीप तप-तेल भर, घर शोधै भ्रम छोर।
या विधि बिन निकसै नहीं, बैठे पूरब चोर ॥
पंच महाव्रत संचरण, समिति पंच परकार ।
प्रलय पंच इंद्रय विजय, धार निर्जरा सार ॥
चौदह राजु उतंग नभ, लोक पुरूष संठान ।
तामे जीव अनादितैं, भ्रमरत है बिन ज्ञान॥
धन कन कंचन राजसुख, सबहि सुलभकर जान।
दुर्लभ है संसार में, एक जथारत ज्ञान।।
जाँचे सुर-तरू देय सुख, चिंतत चिंता रैन।
बिन जाँचे बिन चिन्तये, धर्म सकल सुख देन॥

समाधि भावना 

दिन रात मेरे स्वामी, मैं भावना ये भाऊँ।
देहान्त के समय मै, तुम को न भूल जाऊँ॥
शत्रु अगर कोई हो, सन्तुष्ट उन को कर दूँ।
समता का भाव धर कर, सब से क्षमा कराऊँ॥
त्यागूं आहार पानी, औषध विचार अवसर ।
टूटे नियम न कोई, द्रढ़ता ह्र्दय में लाऊ॥ 

 

ये भी पढें: भगवान बाहुबली पर कविता
ये भी पढ़ें: भगवती गीत

 

जागें नहीं कषायें, नहिं वेदना सतावे।
तुमसे ही लौ लगी हो, दुर्ध्यान को भगाऊँ ॥
आतम स्वरूप अथवा, आराधना विचारूं।
अरहंत सिद्ध साधू, रटना यही लगाऊँ ॥
धर्मात्मा निकट हों, चरचा धर्म सुनावे।
वह सावधान रक्खें, ग़ाफ़िल ना होने पाऊँ।।
जीने की हो ना बांछा, मरने की हो न इच्छा।
परिवार मित्र जन से, मैं राग को हटाऊँ।।
भोगे जो भोग पहले, उनका न होवे सुमरन।
मैं राज्य संपदा या, पद इंद्र का न चाहूँ।।
रत्नत्रय का पालन, हो अंत में समाधी।
शिवराम प्रार्थना है, जीवन सफल बनाऊं।।
दिन रात मेरे स्वामी, मैं भावना ये भाऊँ।
देहान्त के समय मै, तुम को न भूल जाऊँ॥

Similar Posts:

loading...

अगर आप लेखक, कवि, शायर या कहानीकार हैं और अपनी कलम का जादू दुनिया के सामने लाना चाहते हैं तो आप अपनी रचनायें (creations), आर्टिकल्स (articles), कहानियाँ (stories) हमें [email protected] पर मेल करें। हम उसे आपके नाम से प्रकाशित करेंगें लेकिन आपकी रचनायें या लेख पत्रिका, ब्लॉग, अख़बार या किसी वेबसाइट पर प्रकाशित नहीं होनी चाहिये अथवा कहीं से कॉपी की हुई नहीं होनी चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!