अतिथि स्वागत गीत-2 । Atithi swagat geet-2

Buy Ebook

अतिथि स्वागत गीतस्वागत गीत की श्रृंखला में प्रस्तुत है अतिथि स्वागत गीत -2 यह आर्टिकल आपको कैसा लगा अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर व्यक्त करें।

img-20161231-wa0007

अतिथि स्वागत गीत

धन-धन हमारे भाग हैं, श्रीमन हमारे साथ हैं
हम नमन अभिनंदन करें, तव जोड़कर द्वय हाथ हैं।
अनुगृहित है मन मुदित है, श्री मन पधारे जो यहाँ
आभा उदित है मंच पर, सूरज दमकता है यहाँ।
श्रीफल दुशाला पुष्प माला, से करें हम स्वागतम
आतिथ्य को स्वीकार लें, उपकार कर दें श्री मनम।
रंगत नई आई यहाँ, संगत मिली जो आपकी
चहुँ ओर फैला नूर सा, यूँ शख्शियत है आपकी।
गरिमामई करुणामयी, है भाल, नेह का ओज है
इमदाद की सम भाव की, इक रहनुमाई सोच है।
आतुर ह्रदय करता विनय, कुछ आपका उदगार हो
कुछ पथ प्रदर्शित आज हो, आशा की लौं उजयार दो।
आशा भरी मौलिक मलय, नव पल्लवन की कौंध हो
गुंचे उठें नित-नित नवल, उत्साह की मन मौज हो।

ये भी पढ़ें- स्वागत गीत पार्ट 3

ये भी पढ़ें- स्वागत गीत पार्ट 1

Similar Posts:

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *